भारतीय सेना की बढ़ेगी ताकत, दुश्मन को मात देने के लिए सैन्य बेड़े में शामिल होंगे T-90 भीष्म टैंक,


रक्षा मंत्रालय भारतीय सेना की ताकत बढ़ाने और दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सेना के बेड़े में T-90 भीष्म टैंक शामिल करने जा रहा है. रूसी मूल के इन टैंकों के लिए भारत ने रूस के साथ 13,448 करोड़ रुपये का अनुबंध किया है. हालांकि इन टैंकों को भारतीय सेना को मिलने अभी थोड़ा सा वक्त लगेगा. ऐसा माना जा रहा है कि सेना के बेड़े में ये टैंक साल 2022 से 2026 तक के बीच शामिल होंगे.

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान भी अपनी सेना की ताकत बढ़ाने के लिए इसी तरह के 360 टैंक खरीदने पर विचार कर रहा है. रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, नए T-90 टैंक अपग्रेड होंगे. उसके बाद उन्हें भारत में ही तैयार किया जाएगा. बता दें कि इसके अधिग्रहण के लिए रूस से एक महीने पहले ही लाइसेंस को मंजूरी मिल गई है.

इसके तहर भारत 464 T-90 टैंकों का उत्पादन करेगा. जिसके लिए जल्द ही मांगपत्र ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के तहत चेन्नई के अवाडी हेवी व्हीकल फैक्ट्री में मांगे जाएंगे. बता दें कि इस समय सेना के काफिले में 1,070 टैंक हैं. सेना के पास इसके अलावा 124 अर्जुन और 2,400 पुराने टT-27 टैंक भी मौजूद हैं.

भारत ने साल 2001 के बाद रूस से 657 T-90 टैंकों को खरीदा था. जिसकी कीमत 8,525 करोड़ रुपये थी. एक सूत्र के मुताबिक, बचे हुए 464 टैंकों के मांगपत्र में कुछ देरी होने की वजह से भारत को नहीं मिल पाए. बता दें कि रूस से मिलने वाले ये नए टैंक रात में लड़ने की क्षमता से लैंस होंगे.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap