बंगाल में देर रात फिर हुई हिंसा, बीजेपी नेता मुकुल रॉय और समिक भट्टाचार्य की गाड़ी पर हमला,

पश्चिम बंगाल में हिंसा लगातार दो दिनों से हिंसा और झड़प जारी है. इसी बीच नगरबाजार इलाके में दमदम से बीजेपी के उम्मीदवार समिक भट्टाचार्य और मुकुल रॉय की गाड़ी पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया.

गनीमत ये रही कि जिस वक्त गाड़ी पर हमला किया गया. उस समय दोनों ही नेता गाड़ी में मौजूद नहीं थे. बता दें कि बंगाल में लगातार हो रहे हिंसा के कारण चुनाव आयोग ने 20 घंटे पहले यानि गुरुवार की रात को ही आखिरी चरण के चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है.

बता दें कि पिछले सप्ताह भी बंगाल के पूर्व मिदनापुर में बीजेपी के प्रमुख दिलीप घोष और असम के मंत्री हेमंत बिस्व सरमा की गाड़ी पर हमला किया गया था. इस हमले का आरोप तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लगाया गया था. बता दें कि बंगाल में अब तक हुए लोकसभा चुनाव के 6 चरणों के चुनाव में हिंसा हुई है. पिछले दो दिनों से यहां लागातर हिंसा जारी है.

हिंसा के कारण एक दिन पहले बंद हुआ चुनाव प्रचार

कोलकाता में मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान भड़की हिंसा में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा जमकर पथराव और आगजनी हुई. इस दौरान ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति भी तोड़ दी गई. अमित शाह ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, हम शांति से रोड शो निकाल रहे थे, लेकिन इन दौरान उन पर तीन हमले किए गए.  अगर सीआरपीएफ न होती तो मेरा बचकर आना नामुमकिन था.”

अमित शाह के बयान के बाद तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा,  “शाह बंगाल में बाहर से गुंडे लेकर आए थे. छात्रों ने शाह को पोस्टर और काले झंडे दिखाए थे. यह लोकतांत्रिक विरोध था. भाजपा वालों ने ही पत्थर फेंके. “

बंगाल में भड़की हिंसा के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार की देर रात ही पैदल मार्च निकाला और इस दौरान कहा, “बंगाल में भी ठीक उसी तरह हिंसा हुई, जैसी कि अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाते वक्त हुई थी.” बंगाल में लगातार बढ़ रहे हिंसा को देखते हुए चुनाव आयोग ने बुधवार को एक दिन पहले (20 घंटे) चुनाव प्रचार खत्म करने के आदेश दिए. यहां जहां शुक्रवार की शाम 6 बजे चुनाव प्रचार खत्म होने वाले थे, वहीं, यहां गुरुवार की रात 10 बजे प्रचार समाप्त कर दिया गया.