भूपेश बघेल सरकार ने छत्तीसगढ़ के दन्तेवाड़ा में पहाड़ बचाने के लिए वनों की कटाई पर तुरंत रोक लगा दी

दन्तेवाड़ा में पहाड़ी को बचाने के लिए आदिवासी आंदोलन कर रहे हैं. अब सरकार ने इस क्षेत्र में वनों की कटाई पर तुरंत रोक लगा दी है. दरअसल आदिवासी इस पहाड़ी नंदराज पर्वत को अपना देवता मानते हैं.

Chhattisgarh govt taken a big step, stopped cuttig of trees in Dantewada

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने छत्तीसगढ़ के दन्तेवाड़ा में पहाड़ बचाने के लिए की जा रही आदिवासियों की मांगे मान ली हैं. इस बारे में सरकार ने बस्तर से आये प्रतिनिधिमंडल की मांगें मानने के बाद बड़ा फैसला किया है. सरकार ने वनों की कटाई पर तुरंत रोक लगा दी है.

बता दें कि बीते शुक्रवार 7 जून से छत्तीसगढ़ के दन्तेवाड़ा में पहाड़ बचाने के लिए आदिवासियों का महाआंदोलन जारी है. आंदोलन में हजारों आदिवासी मौजूद हैं. संभाग भर से आदिवासी जंगलों से निकलकर अपने परिवार सहित मीलों पैदल यात्रा कर इस आंदोलन में शामिल हुए हैं. दरअसल एनएमडीसी की कंपनी एनसीएल ने उद्योगपति गौतम अडानी को लौह अयस्क के खनन के लिए बैलाडीला की डिपोजिट नंबर 13 का ठेका दिया है.

दन्तेवाड़ा में पहाड़ी को बचाने के लिए आदिवासी आंदोलन कर रहे हैं. आदिवासी इस पहाड़ी नंदराज पर्वत को अपना देवता मानते हैं. अब सरकार के इस फैसले के बाद फिलहाल जो काम चल रहा है उस पर रोक लग जाएगी.

अपने फैसले के अलावा सरकार ने कहा है कि साल 2014 के फर्जी ग्राम सभा के आरोप की जांच कराई जाएगी. इसके अलावा क्षेत्र में संचालित कार्यो पर तत्काल रोक लगाई जायेगी. राज्य सरकार की ओर से भारत सरकार को पत्र लिख कर जन भावनाओं की जानकारी दी जाएगी.

 
hi_INHindi
hi_INHindi