राजधानी दिल्ली दुनिया में सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम का सामना करने वाले शीर्ष 5 शहरों में शामिल

एक रिपोर्ट बताती है कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली दुनिया में सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम का सामना करने वाले शीर्ष 5 शहरों में शामिल हैं. जाम के कारण पिछले साल देश के 4 शहरों को 1.44 लाख करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा था.

Image result for DElhi Traffic Jam

भारत एक ओर विकास के पथ पर आगे जा रहा है, तो दूसरी ओर सड़कों पर भारी ट्रैफिक जाम तरक्की की राह में बाधक बनता दिख रहा है. ट्रैफिक से न सिर्फ रफ्तार पर ब्रेक लग जाता है बल्कि आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ता है देश को और आम जनता को. हाल की एक रिपोर्ट बताती है कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली दुनिया में सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम का सामना करने वाले शीर्ष 5 शहरों में शामिल हैं. जाम के कारण पिछले साल देश के 4 शहरों को 1.44 लाख करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा था. अगर आंकड़ो का विश्लेषण करें तो दिल्ली में इससे पिछले साल जितना आर्थिक नुकसान हुआ, उतने में 15 साल से अधिक समय तक मेट्रो से महिला-पुरुषों को मुफ्त सफर की सुविधा दी जा सकती है.

टॉम टॉम ट्रैफिक इंडेक्स 2018 की ओर से जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि ट्रैफिक जाम के लिए सबसे खराब चारों शहर विकासशील देशों के हैं जिसमें 2 शहर भारत से और 2 दक्षिण अमेरिका से है. पांचवें नंबर पर रूस की राजधानी मास्को है. 6 महाद्वीपों के 56 देशों के 403 शहरों पर जीपीएस आधारित सर्वे के बाद यह बात सामने आई कि जाम के मामले में मुंबई सबसे खराब शहर है और इसमें सालाना काफी समय बर्बाद हो जाता है.

Image result for Mumbai Traffic Jam
मुंबई में जाम की स्थिति

4 शहरों को 1.45 लाख करोड़ का नुकसान

इंडेक्स के अनुसार, इस समय दुनियाभर में 60 करोड़ से ज्यादा गाड़ियां डिवाइस से जुड़ी हैं. इस डिवाइस के जरिए हर दिन 3.5 बिलियन यानी 350 करोड़ किलोमीटर का डाटा एकत्र होता है.

ट्रैफिक जाम से होने वाले आर्थिक नुकसान पर पिछले साल अप्रैल में उबर की एक रिपोर्ट आई जिसे बोस्टन कन्सलटिंग ग्रुप ने तैयार किया. रिपोर्ट के अनुसार, भारी जाम के कारण देश के 4 बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु को करीब 1.45 लाख करोड़ (14,400,000 रुपए) का नुकसान उठाना पड़ा था. इस सर्वे में कहा गया था कि दिल्ली के लोग सबसे ज्यादा 45 फीसदी कार का इस्तेमाल करते हैं. जबकि कोलकाता के लोग सबसे कम अपनी कार (22) का इस्तेमाल करते हैं.

पिछले साल जाम के कारण अकेले दिल्ली को 63 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान उठाना पड़ा था, जबकि मुंबई को 31 हजार करोड़ रुपए की चपत लगी थी. यहां बता दें कि केजरीवाल सरकार, महिलाओं के लिए मेट्रो से मुफ्त सफर की सुविधा देने के लिए योजना बनाने में जुटी है. कहा गया है कि मेट्रो से सफर करने वाली तीस फीसद महिलाओं पर सालाना करीब 12 सौ करोड़ खर्च आएगा. इस प्रकार अगर पुरुषों को भी जोड़ दें तो 3600 करोड़ से लेकर चार हजार करोड़ रुपये सालाना में महिला और पुरुषों दोनों के लिए सफर मुफ्त किया जा सकता है. ऐसे में दिल्ली में जाम से लगी 63 हजार करोड़ की आर्थिक चपत को देखें तो 15 साल से ज्यादा के लिए सफर मुफ्त किया जा सकता है.

delhi-jam-2_061019072625.jpg
दिल्ली में रोजाना लगता है भारी जाम 

भारत पहली बार सर्वे में शामिल

टॉम टॉम की ओर से पिछले दिनों जारी सर्वे के अनुसार, ट्रैफिक जाम में फंसने के मामले में मुंबई दुनिया का सबसे खराब शहर है. शीर्ष 10 शहरों में मुंबई के अलावा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली भी शामिल है. सूची के अनुसार, मुंबई के बाद बोगोटा (कोलंबिया), लीमा (पेरू), नई दिल्ली, मास्को, इस्तांबुल (तुर्की), जकार्ता (इंडोनेशिया), बैंकाक (थाइलैंड), मैक्सिको सिटी (मैक्सिको) और रेसिफ (ब्राजील) सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम का सामना करने वाले 10 बड़े शहर हैं. सर्वे में उन शहरों को शामिल किया गया है जहां की आबादी 8 लाख से ज्यादा है.

लोकेशन टेक्नोलॉजी में एक्सपर्ट टॉम टॉम ने इस बार टॉम टॉम ट्रैफिक इंडेक्स तैयार करने के लिए भारत समेत 13 देशों को पहली बार शामिल किया. भारत के अलावा जापान, मिस्र, कोलंबिया, पेरू, यूक्रेन, इजराइल और आइसलैंड अन्य प्रमुख देश हैं. हालांकि शीर्ष 5 में शामिल मुंबई और दिल्ली में 2017 की तुलना में इस साल जाम की स्थिति में गिरावट आई है.

delhi-jam-3_061019072650.jpg
दिल्ली में लगा जाम 

मुंबई में 45 मिनट अतिरिक्त

मुंबई में यह ट्रैफिक जाम की समस्या 65 फीसदी है तो दूसरे नबंर पर आने वाले शहर बोगोटा में यही दर 63 फीसदी है. जबकि पेरू की राजधानी लीमा और दिल्ली में 58-58 फीसदी है. ट्रैफिक जाम के मामले में मुंबई को 65 फीसदी अंक मिले हैं जिसका अर्थ हुआ कि मुंबई में सड़क से एक जगह से दूसरे जगह जाने के लिए औसतन लगने वाले अतिरिक्त समय.

mumbai-jam-2_061019072711.jpg
मुंबई में जाम की स्थिति

मुंबई में सामान्य तौर पर एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने में अगर 45 मिनट लगते हैं तो जाम के दौरान इसी जगह जाने में 1 घंटा 15 मिनट का समय लगेगा. हालांकि राहत की बात यह है कि 2017 की तुलना में इस बार जाम की स्थिति में एक फीसदी की गिरावट आई है.

हाईवे पर कम जाम

मुंबई में ट्रैफिक जाम की बात करें तो जाम का सबसे ज्यादा सामना गैर-हाईवे की सड़कों को करना पड़ता है. हाईवे की तुलना में शहर के अंदर की सड़कों पर ज्यादा जाम लगता है. गैर-हाईवे की सड़कों पर औसतन 76 फीसदी जाम लगता है तो हाईवे पर जाम लगने की समस्या 56 फीसदी ही होती है.

मुंबई में छुट्टी के दिन भी ट्रैफिक जाम की समस्या कम नहीं होती. 2018 में होली के दिन (2 मार्च) को रोज की तुलना में सबसे कम ट्रैफिक जाम दिखा और तब भी यहां पर 16 फीसदी जाम रहा. वहीं आर्थिक राजधानी में सबसे भारी जाम बकरीद के दिन 21 अगस्त को हुआ. इस दिन मुंबई में 111 फीसदी जाम रहा.

Image result for Mumbai Ganpati Wisharjan with Traffic Jam
त्योहार में भी मुंबई को जाम से नहीं मिलता कोई निजात 

वीकेंड पर भी कम नहीं जाम

मुंबई में वीकंड पर भी जाम की समस्या कम नहीं होती. शनिवार शाम को भी ट्रैफिक जाम की समस्या औसतन 95 फीसदी तक रहती है, जबकि सोमवार से शुक्रवार तक यह समस्या 100 फीसदी के आसपास ही रहता है. सुबह ऑफिस जाने के दौरान पिक ऑवर में रोजाना 24 से 30 मिनट अतिरिक्त समय के रूप में देना होता है जबकि शाम को 30 से 31 मिनट का अतिरिक्त समय लगता है.

दिल्ली में हाईवे पर 50 फीसदी जाम

मुंबई के अलावा राजधानी दिल्ली के ट्रैफिक जाम की बात करें तो 2018 में यहां पर 58 फीसदी जाम रिकॉर्ड किया गया, हालांकि 2017 की तुलना में इसमें 4 फीसदी की गिरावट है. मुंबई की तरह दिल्ली में भी होली के दिन 2 मार्च को जाम की स्थिति में कमी दिखी और इसमें 6 फीसदी की गिरावट आई थी. जबकि सबसे ज्यादा 83 फीसदी जाम 8 अगस्त को रहा.

दिल्ली में भी गैर-हाईवे सड़कों को जाम का सबसे ज्यादा सामना करना पड़ता है. गैर-हाईवे की सड़कों पर औसतन 61 फीसदी जाम लगता है तो हाईवे पर जाम लगने की समस्या 50 फीसदी है. राजधानी में सुबह ऑफिस जाने के दौरान पिक ऑवर में रोजाना 22 अतिरिक्त समय के रूप में देना होता है जबकि शाम को 29 मिनट का अतिरिक्त समय लगता है. दिल्ली में पिक ऑवर में जाम की बात करें तो सुबह (73 फीसदी) की तुलना में शाम (95 फीसदी) को ज्यादा जाम लगता है.

दिल्ली में 29 करोड़ किमी का सर्वे

टॉम टॉम ट्रैफिक इंडेक्स के अनुसार मुंबई में ट्रैफिक जाम की स्थिति जानने के लिए 9,65,24,453 किलोमीटर का आंकड़ा जुटाया गया जिसमें हाईवे पर 5,43,95,970 किलोमीटर और गैर-हाईवे पर 4,21,28,483 किलोमीटर को शामिल किया गया.

वहीं दिल्ली में ट्रैफिक जाम की स्थिति जानने के लिए 29,01,86,189 किलोमीटर का आंकड़ा जुटाया गया जिसमें हाईवे पर 10,50,08,588 किलोमीटर और गैर-हाईवे पर 18,51,77,601 किलोमीटर को शामिल किया गया.

INRIX की रिपोर्ट में मास्को नंबर वन

हालांकि दूसरी ओर, आईएलआरआईएक्स (INRIX) ग्लोबल ट्रैफिक स्कोरबोर्ड 2018 के अनुसार अमेरिका में ड्राइवरों को 87 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ. जबकि जाम के कारण 97 घंटे बर्बाद हो गए. इसके अनुसार रूस की राजधानी मास्को भारी जाम के मामले में दुनिया में नंबर वन रहा. मास्को लगातार दूसरी बार इस सूची में शीर्ष पर बना हुआ है. मास्को के बाद तुर्की की राजधानी इंस्ताबुल, कोलंबिया की राजधानी बोगोटा का नंबर आता है.

आईएलआरआईएक्स की रिपोर्ट कहता है कि ट्रैफिक जाम के कारण मास्को के गाड़ी चालकों के करीब 210 घंटे बर्बाद हो गए और गाड़ी की स्पीड 11 मील प्रति घंटा के हिसाब से चलने को मजबूर हुई. अन्य महाद्वीपों की तुलना में शीर्ष 20 देशों में यूरोप के ज्यादातर शहर शामिल हैं. आईएलआरआईएक्स ने हर दिन के ज्यादा ट्रैफिक जाम और कम ट्रैफिक जाम के बीच के अंतर के आधार पर इस रिपोर्ट को तैयार किया है. शहरों की रैंकिंग का निर्धारण उस शहर की आबादी और जाम के कारण हुई देरी पर आधारित है.

देश में ट्रैफिक जाम की स्थिति सुधारने की कोई कोशिश की जाती है और उसमें सुधार भी दिख रहा है, लेकिन जिस रफ्तार से सड़कों पर गाड़ियों की संख्या में ईजाफा हो रहा है उससे कोशिश ही नहीं कुछ बड़े प्रयास करने होंगे. दिल्ली में मेट्रो जैसी सार्वजनिक परिवाहन होने के बाद भी जाम की स्थिति बनी रहती है. जाम से समय तो बर्बाद होता ही है, साथ में पैसे का भी नुकसान होता है. इस पर अंकुश लगाए जाने की जरुरत है.

 
hi_INHindi
hi_INHindi