कोलकाता : बीजेपी कार्यकर्ताओं पर छोड़े गए आंसू गैस के गोले

प्रदर्शन करने वालों में बड़ी संख्या में महिला कार्यकर्ता भी शामिल हैं. मुख्यालय के बाहर बीजेपी का झंडा लहराने वालीं 5 महिला कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है. बीजेपी के मार्च को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

बंगाल में आर-पार की लड़ाई

बंगाल में आर-पार की लड़ाई

पश्चिम बंगाल में आज यानी बुधवार को भारतीय जनता पार्टी लाल बाजार मार्च निकाल रही है. बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ पार्टी ने कोलकाता के लाल बाजार इलाके में स्थित पुलिस मुख्यालय का घेराव किया. यहां पर कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं तो वहीं पुलिस की तरफ से उनपर आंसू गैस के गोले दागे गए हैं.

प्रदर्शन करने वालों में बड़ी संख्या में महिला कार्यकर्ता भी शामिल हैं. मुख्यालय के बाहर बीजेपी का झंडा लहराने वालीं 5 महिला कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है. बीजेपी के मार्च को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

मार्च के पूरे रूट पर पुलिस की तैनाती है. कोलकाता के अलावा हावड़ा और सियालदह में भी बीजेपी प्रदर्शन कर रही है. इससे पहले हावड़ा में मंगलवार को बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए थे. बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया. विरोध प्रदर्शन के दौरान युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं सड़क पर लेट गए.

पुलिस ने हटाया तो झड़प हो गई. धक्का मुक्की होने लगी. एक घंटे तक रास्ता ठप रहा. पुलिस ने ट्रैफिक को शुरू करने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को जबरन सड़क से हटाया.

संदेशखली में अपने कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में 10 जून को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने 12 घंटे के बंद का आह्वान किया. बंद के चलते बशीरहाट उपमंडल में रेल सेवाएं बाधित हुईं और आम जनजीवन प्रभावित हुआ. बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने उत्तर 24 परगना में भ्याबला स्टेशन पर सुबह रेल ट्रैक पर धरना प्रदर्शन किया, जिससे सियालदाह-हसनाबाद मंडल में स्थानीय ट्रेन सेवाओं में व्यवधान पैदा हुआ.

ज्यादातर दुकानें बंद रहीं. अधिकांश निजी गाड़ियां सड़कों से नदारद रहीं, जबकि सरकारी गाड़ियां नजर आईं. पुलिस ने कहा, “कानून और व्यवस्था नियंत्रण में है. हड़ताल से जीवन आंशिक रूप से प्रभावित हुआ है.”

भगवा पार्टी के झंडे को हटाने को लेकर संदेशखली के हतगाची इलाके में रविवार को तृणमूल और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई, इसने जल्द ही एक हिंसक रूप ले लिया और गोलियां चलाई जाने लगीं. पुलिस ने घटना में अब तक बीजेपी के दो और तृणमूल के एक कार्यकर्ता की मौत होने की पुष्टि की है, हालांकि दोनों दलों ने कम से कम आठ मौतें होने का दावा किया है.