बैकफुट पर आईं ममता बनर्जी, घायल डॉक्टर से मिलने जाएंगी अस्पताल


Image result for mamta banerjee

पश्चिम बंगाल के डॉक्टरों की हड़ताल का असर देशभर में दिखाई दे रहा है. सिर्फ पश्चिम बंगाल ही नहीं दिल्ली के एम्स समेत 18 बड़े अस्पतालों के डॉक्टर भी हड़ताल पर हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अपील के बाद भी डॉक्टरों की हड़ताल का समाधान नहीं निकला और हड़ताली डॉक्टर अपने रूख पर अड़े हुए हैं. बंगाल में लगातार पांचवें दिन भी डॉक्टरों की हड़ताल जारी है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को चिट्ठी लिखकर हड़ताल खत्म करने की अपील की तो जवाब में डॉक्टरों ने अपनी मांगों की नई लिस्ट जारी की है. वहीं बंगाल के डॉक्टरों के समर्थन में दिल्ली के डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज बेहाल हैं, हड़ताली डॉक्टरों ने 48 घंटे का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि अगर उनकी मागों को नहीं माना गया तो कल यानी रविवार को 14 अस्पतालों में ओपीडी और रुटीन सर्जरी भी बंद होगी. 

Highlights

  • बंगाल में पांचवें दिन भी डॉक्टरों की हड़ताल जारी
  • बंगाल के डॉक्टरों को देशभर से मिला समर्थन
  • दिल्ली के 18 अस्पतालों में हड़ताल
  • स्ट्राइक पर 10 हजार से ज्यादा डॉक्टर
  • बंगाल सरकार को दिया 48 घंटे का अल्टीमेटम

घायल डॉक्टर से मिलने अस्पताल जाएंगी ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी घायल डॉक्टर से मिलने के लिए अस्पताल जाएंगी.

घायल डॉक्टर के परिजनों ने कही ये बातकोलकाता के NRS अस्पताल में डॉक्टर के ऊपर हुए हमले के बाद घायल डॉक्टर के परिजनों ने कहा कि मुख्यमंत्री को अस्पताल आना चाहिए था. हालांकि उन्होंने कहा कि प्रशासन की ओर से हर संभव सहायता करने का आश्वासन दिया गया है. परिजनों ने कहा कि इस तरह की यह कोई पहली घटना नहीं है, राज्य में 200 से ज्यादा ऐसी घटनाएं हुई हैं. ऐसे में डॉक्टरों के सुरक्षा दी जानी चाहिए और दोषियों को सजा मिलनी चाहिए.

IMA के प्रतिनिधिमंडल ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से की मुलाकात

AIIMS में डॉक्टरों का कैंडल मार्च

रेजिडेंट डॉक्टर्स आज शाम 6 बजे एम्स के परिसर में कैंडल मार्च करेंगे.

डॉक्टरों की ममता सरकार को दिया 48 घंटे का अल्टीमेटम

दिल्ली एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने पश्चिम बंगाल सरकार को हड़ताली डॉक्टरों की मांगें पूरी करने के लिए 48 घंटों का अल्टीमेटम दिया है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने मांगें पूरी नहीं कीं तो एम्स में अनिश्चितकालीन हड़ताल करने पर मजबूर होंगे.

हड़ताल पर दिल्ली के इन अस्पतालों के डॉक्टर

बाबा साहेब अम्बेडकर मेडिकल कालेज एंड हॉस्पिटल हिंदूराव हॉस्पिटल बीएमएच, दिल्ली दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल संजय गांधी मेमोरीयल हॉस्पिटल लेडी हार्डिंग मेडिकल कालेज एंड एसोसिएटेड हॉस्पिटल्स इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड एलाइड साइंसेज़ श्री दादा देव मैत्री एवं शिशु चिकित्सालय नॉर्दन रेलवे हॉस्पिटल ईएसआईसी हॉस्पिटल चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल गुरु गोविंद सिंह हॉस्पिटल

दिल्ली के 18 अस्पतालों में हड़ताल

राजधानी दिल्ली के 14 बड़े अस्पताल समेत 18 अस्पतालों में आज (शनिवार) को डॉक्टरों की हड़ताल रहेगी. करीब दस हजार से ज्यादा डॉक्टर्स हड़ताल पर रहेंगे. फेडरेशन ऑफ रेसीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के बैनर के जरिए इन अस्पतालों के डॉक्टरों ने हड़ताल की लिखित सूचना अपने मेडिकल सुपरिटेंडेंट को दे दी है.

जम्मू-कश्मीर सांकेतिक हड़ताल

जम्मू-कश्मीर डॉक्टर्स कोऑरडीनेशन कमेटी के अनुसार, जम्मू-कश्मीर और लेह रीजन के सभी अस्पतालों में शनिवार यानी 15 जून  सुबह 10 बजे से 12 बजे तक दो घंटे की सांकेतिक हड़ताल रहेगी.

बंगाल के डॉक्टरों को देशभर के अस्पतालों का समर्थन

दिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन, यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एसोसिशन ऑफ इंडिया (यूआरडीए) और फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (एफओआरडीए) ने डॉक्टरों को सुरक्षा देने की मांग का समर्थन किया है. डॉक्टरों के इन संगठनों ने हर्षवर्धन को पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हुई हिंसा को लेकर ज्ञापन दिया है.

हर्षवर्धन ने डॉक्टरों से की हड़ताल खत्म करने की अपील

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को डॉक्टरों से हड़ताल खत्म करने की अपील की. हर्षवर्धन ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से उनके प्रदेश में डॉक्टरों के खिलाफ अल्टीमेटम वापस लेने का आग्रह किया. उनका कहना है कि ममता के अल्टीमेटम के कारण देशभर में डॉक्टर हड़ताल पर चले गए.  डॉक्टरों से समाज के हित में हड़ताल खत्म करने के की अपील करते हुए हर्षवर्धन ने कहा कि वह पूरे देश के अस्पतालों में उनके लिए सुरक्षित माहौल सुनिश्चित करने के लिए संभव कदम उठाएंगे.

सरकारी अस्पतालों पर हड़ताल का असरपश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थिति नील रत्न सरकारी (NRS) मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों से मारपीट के मामले ने तूल पकड़ लिया है. जूनियर डॉक्टर की पिटाई के बाद हुई डॉक्टरों की हड़ताल का असर सरकारी अस्पतालों में भी दिखाई दे रहा है. बंगाल में अब तक 150 से ज्यादा डॉक्टरों ने इस्तीफा दिया और काम पर लौटने के लिए डॉक्टरों ने सरकार के सामने शर्त रखी है. हड़ताल के कारण मरीजों और उनके तिमारदारों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि अस्पतालों में आपातकालीन सेवाएं जारी हैं.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap