PNB घोटाला: जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किया जाएगा मेहुल चोकसी, रद्द होगी एंटीगुआ की नागरिकता


13 हजार करोड़ रुपये से अधिक का घोटाला उजागर होने के बाद 2018 की शुरुआत में मेहुल चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी भारत से फरार हो गया था. तभी से भारत दोनों हीरा कारोबारियों को प्रत्यर्पित करने की कोशिश में जुटा है.

Related image

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को करोड़ों का चूना लगाकर भारत से फरार मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है. आज एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने कहा कि उसे भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है और उसकी नागरिकता वापस ली जा सकती है.

13 हजार करोड़ रुपये से अधिक का घोटाला कर मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी भारत से फरार हो गए थे. नीरव मोदी फिलहाल लंदन की जेल में बंद है और चोकसी एंटीगुआ की नागरिकता लेकर एंटीगुआ में रह रहा है. दोनों के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई जांच कर रही है

गैस्टन ब्राउन ने कहा, ”मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द की जाएगी और उसे भारत को प्रत्‍यर्पित किया जाएगा. यह ऐसा मामला नहीं है कि हम अपराधियों के लिए कोई सुरक्षित जगह उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहे हैं, जो वित्तीय अपराधों में शामिल है.”

उन्होंने कहा, ”हम एक प्रक्रिया के तहत अनुमति देंगे. यह मामला कोर्ट के सामने है और जैसा कि हमने भारत सरकार से कहा है कि अपराधियों के भी मौलिक अधिकार होते हैं. चोकसी को भी अदालत में जाने और अपना बचाव करने का अधिकार है.”

पिछले दिनों पीएनबी घोटाले से जुड़े मामले की सुनवाई के दौरान ईडी ने बॉम्बे हाईकोर्ट में कहा था कि वह चोकसी को वापस लाने के लिए एयर एंबुलेंस की व्यवस्था कर सकती है. चोकसी ने बंबई हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि वह इलाज के लिए भारत से बाहर गया है और कोर्ट की कार्रवाई से भाग नहीं रहा है. उसने कहा था कि स्वास्थ्य ठीक होने के बाद वह भारत वापस आएगा.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap