बैंक बकाएदारों पर बड़ा एक्शन, 18 शहरों की 50 जगहों पर CBI की रेड

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक ऋण के बड़े बकाएदारों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को देश के 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में लगभग 50 स्थानों पर छापेमारी की.

Image result for CBI

बैंकों के बढ़ते एनपीए से परेशान केंद्र सरकार अब इसे लेकर सख्त हो गई है. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक ऋण के बड़े बकाएदारों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को देश के 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 50 स्थानों पर छापेमारी की. सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि कई टीमों ने 18 शहरों में कंपनियों, प्रमोटरों, निदेशकों और बैंक अधिकारियों के आवासों और व्यावसायिक परिसरों पर छापेमारी की.

सीबीआई के छापे दिल्ली, मुंबई,  ठाणे, लुधियाना, वलसाड़, पुणे, पलानी, गया, गुड़गांव, चंडीगढ़, भोपाल, सूरत, कोलार आदि शहरों में पड़े. सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि बैंक फ्रॉड के 14 नए मामले दर्ज किए गए हैं. यह मामले 640 करोड़ की धोखाधड़ी के हैं.

इन कंपनियों के ठिकानों पर हुई छापेमारी

जानकारी के अनुसार सीबीआई ने जिन कंपनियों के ठिकानों पर छापेमारी की, उनमें मुख्य रूप से विन्सम समूह , सुप्रीम टेक्स मार्ट, तयाल ग्रुप, नफ्तो गज इंडिया लिमिटेड, एसएल कन्ज्यूमर आदि कंपनियां प्रमुख हैं. विन्सम समूह के मुंबई और ठाणे स्थित ठिकानों पर छापेमारी हुई, जबकि टेक्स मार्ट के लुधियाना, तयाल ग्रुप के मुंबई, नफ्तो गजके दिल्ली, एसएल कन्ज्यूमर के दिल्ली और इंटरनेशनल मेगा फूड पार्क के पंजाब स्थित ठिकानों पर छापेमारी की गई.

चुनाव के दौरान चर्चा में रहा था 13 हजार करोड़ के फ्रॉड का मुद्दा

सीबीआई ने यह कार्रवाई मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के 2 माह के अंदर ही की है. इसे बैंक फ्रॉड को लेकर सरकार की सख्त नीति से जोड़कर देखा जा रहा है. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के दौरान बैंकों से 13 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मुद्दा चर्चा में रहा था.

नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और विजय माल्या के देश छोड़कर फरार हो जाने से सरकार की खूब किरकिरी हुई थी. इन तीनों का प्रत्यर्पण करा भारत लाने के लिए के मामलों की ब्रिटेन और एंटीगुआ की अदालतों में सुनवाई चल रही है. बता दें कि मंगलवार को जिस दिन सीबीआई देश के 18 शहरों में छापेमारी कर रही थी, उसी दिन ब्रिटेन की अदालत में विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर सुनवाई होनी थी.

 
hi_INHindi
hi_INHindi