लोकसभा में भगवंत मान को चुप कराकर बोले ओम बिड़ला- मैं पढ़ा-लिखा सभापति हूं…

इससे पहले भी कई बार स्पीकर ओम बिड़ला को सदन चलाने के लिए सख्ती बरतते देखा गया है. पिछले दिनों उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल को नसीहत देते हुए कहा था कि वह किसी भी सदस्य को बोलने की आज्ञा न दें, सदन में यह काम स्पीकर का है.

ओम बिड़ला और भगवंत मान

लोकसभा में स्पीकर ओम बिड़ला सदस्यों को आए दिन सदन के नियमों की सीख देते दिखाई पड़ते हैं. इसी तरह गुरुवार को उन्होंने आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान को नियमों का पाठ पढ़ाते हुए शांत कर दिया. मान किसी मुद्दे पर बोलने के लिए खड़े हुए थे, लेकिन स्पीकर ने उन्हें बीच में ही रोका और बैठाते हुए संसद के कायदे-कानून भी याद दिला दिए.

सदन में गुरुवार को शून्य काल के दौरान विभिन्न सांसद अलग-अलग मुद्दों को उठा रहे थे. तभी स्पीकर ने AAP के सांसद भगवंत मान को बोलने की इजाजत दी. इस पर मान ने विदेशों में बसे भारतीय दूतावास का मुद्दा सदन में उठाया, वह अपनी बात पूरी कर पाते, इससे पहले स्पीकर ने उन्हें टोकते हुए कहा कि आपने शून्य काल में जिस विषय का नोटिस दिया है उसी विषय को उठाएं. अगर विषय बदलना भी है तो मुझसे इजाजत लें. स्पीकर ओम बिड़ला ने आगे कहा कि आपने पंजाब में टीचरों की सैलरी का विषय दिया है, मैं पढ़ा-लिखा सभापति हूं. बिड़ला के यह कहते ही सदन में जोर से ठहाके गूंजने लगे.

इसके बाद स्पीकर ने भगवंत मान को विषय बदलने की इजाजत देते हुए कहा कि अगर किसी को विषय बदलना हो तो वह मुझसे परमिशन ले, मैं इसकी परमिशन दूंगा. इससे पहले भी कई बार स्पीकर ओम बिड़ला को सदन चलाने के लिए सख्ती बरतते देखा गया है. पिछले दिनों उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल को नसीहत देते हुए कहा था कि वह किसी भी सदस्य को बोलने की आज्ञा न दें, सदन में यह काम स्पीकर का है.

सदन में न लगाएं आरोप

लोकसभा को सुचारू ढंग से चलाने के लिए ओम बिड़ला ने आज सदन में सदस्यों से आरोप लगाने से बचने की हिदायत दी. उन्होंने कहा कि बगैर तथ्य और प्रमाण के किसी पर भी आरोप-प्रत्यारोप न करें. उन्होंने कहा कि इस सदन के अंदर जिस तरह की हमारी गरिमा है उसका पालन करें, इसी को ध्यान में रखते हुए नए सदस्यों के लिए प्रबोधन कार्यक्रम भी शुरू किया है. स्पीकर ने वरिष्ठ सदस्यों से कहा कि अपने क्षेत्र की समस्याएं उठाएं, अपनी बात कहें, लोगों के अभाव को कहें लेकिन किसी पर आरोप लगाने की जरूरत नहीं है.

लोकसभा स्पीकर लगातार नए सदस्यों को सदन में बोलने का मौका दे रहे हैं. इसी कड़ी में आज उन्होंने 17वीं लोकसभा की सबसे युवा सांसद चंद्राणी मुर्मू को बोलने का मौका दिया. स्पीकर ने सदन को बताया कि यह सदन की सबसे युवा सांसद है और मैंने खुद इनसे व्यक्तिगत तौर पर अपनी बात सदन में उठाने के लिए कहा था. 25 वर्षीय मुर्मू ओडिशा की क्योंझर लोकसभा सीट से बीजेडी सांसद चुनी गई हैं.