एक साल में हुआ 8400 करोड़ का घाटा, एयर इंडिया को एक और झटका,

संकट में डूबी एयर इंडिया को एक और झटका लगा है. एयर इंडिया को पिछले एक साल में 8400 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है. 

एयर इंडिया को ये घाटा वित्तीय वर्ष 2018-19 में हुआ है. भारतीय विमानन कंपनी एयर इंडिया पिछले लंबे समय से पैसों की कमी से जूझ रही है. जिसके चलते उसपर कर्ज का बोझ लगातार बढ़ता जा रहा है. ज्यादा ऑपरेटिंग कॉस्ट और फॉरेन एक्सचेंज लॉस के चलते कंपनी को भारी घाटा उठाना पड़ा है.

बता दें कि स्पाइसजेट का मार्केट कैपिटल केवल 7,892 करोड़ रुपये है. इस लिहाज से देखा जाए तो 8,000 करोड़ रुपये से कम पूंजी में ही इस एयरलाइंस को खरीदा जा सकता है. वित्तीय वर्ष 2018-19 में एयर इंडिया को कुल 26,400 करोड़ रुपये आय हुई. हालांकि इस दौरान कंपनी को 4,600 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस उठाना पड़ा है.

एयर इंडिया को हो रहे इस घाटे के पीछे बढ़ते तेल के दाम और पाकिस्तान के भारतीय विमानों के लिए एयरस्पेस बंद करना प्रमुख कारण है. पाकिस्तान के एयर स्पेस बंद करने के चलते एयर इंडिया को रोजाना 3 से 4 करोड़ रुपये का घाटा उठाना पड़ रहा है. कंपनी के एक वरिष्ठ अधि‍कारी ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया कि जून की तिमाही में सिर्फ पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने की वजह से एयर इंडिया को 175 से 200 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस हुआ है.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस साल 2 जुलाई तक एयर इंडिया को पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने के चलते 491 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. बता दें कि पाकिस्तान ने पहले फरवरी में बालाकोट स्ट्राइक के बाद अपने एयरस्पेस बंद कर दिए थे, हालांकि इसे जुलाई में खोल दिया गया. उसके बाद कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने अपने एयर स्पेस को अगस्त के आखिर में एक बार फिर से बंद कर दिया. इसके बाद ये अभी तक बंद है.

पाकिस्तान के एयर स्पेस बंद किए जाने के बाद एयर इंडिया को ही नुकसान नहीं हुआ है. बल्कि देश में संचालित प्राइवेट एयरलाइंस स्पाइसजेट, इंडिगो और गोएयर को क्रमश: 30.73 करोड़ रुपये, 25.1 करोड़ रुपये और 2.1 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

 
hi_INHindi
hi_INHindi