पेड़ काटे है , तो लगाए भी गए है : प्रकाश जावेड़कर


मुंबईः मुंबई के आरे कॉलोनी में पेड़ काटने की बात को लेकर भारत के पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने सफाई देते हुए कहा की मजबूरी में पेड़ काटे जाते है तो उसके बदले उसकी भरपाई भी की जाती है. उन्होंने ये कहा की बॉम्बे हाई कोर्ट ने साफ़ कहा था की वहाँ कोई जंगल नहीं है।

दिल्ली मेट्रो का पहला निर्मण बताते हुए जावेड़कर ने की यहाँ भी 20 से 25 पेड़ काटे गए थे और उस वक़्त भी लोगो ने विरोध किया था पर हर एक पेड़ के बदले 5 पेड़ लगाए भी गए थे। पर्यावरण विकास को लेकर जावेड़कर ने सीधे तौर पर कहा की विकास कार्यों के दौरान पर्यावरण के विरुद्ध कार्रवाई के मद्देनजर हमेशा से उचित कदम उठाए जाते रहे है।

पर्यावरण मंत्री ने कहा की ,विकास कार्यों के लिए पेड़ काटने की मजबूरी होती है तो इसका भी ध्यान रखा जाता है बदले में नए पौधे लगाए जाएं ताकि पर्यावरण संरक्षण की जरूरत भी पूरी होती रहे। जावेड़कर ने साफ़ तौर पर कहा की दिल्ली में सिर्फ मेट्रो के लिए ही काम नहीं हुआ, पेड़ों की तादाद भी बढ़ाई गई और दिल्ली में 271 मेट्रो स्टेशन बनाए गए हैं और पेड़ों की संख्या भी बढ़ी है। और उन्होंने ये भी कहा की विकास के साथ -साथ प्रकृति का भी ध्यान दिया गया है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap