जीएसटी को लेकर वित्त मंत्री ने क्या कहा , जानने के लिए देखे ये


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा की मुझे खुद एहसास है गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स आपकी संतुष्टि को पूरा नहीं कर पाया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कल पुणे व्यवसायियों, उद्यमियों, सीए और अन्य लोगों से बातचीत के दौरान कही।

साथ ही उन्होंने ये भी कहा की मेरी पहले दिन से यही कामना रही है कि जीएसटी आपकी संतुष्टि को पूरा करे, लेकिन मुझे खेद है कि जीएसटी आपकी संतुष्टि को पूरा नहीं कर पाया. यह संसद और सभी राज्य विधानसभाओं में पारित किया गया था. इसमें कुछ कमी हो सकती है. यह शायद आपको मुश्किलें दे सकता है. यह देश का ‘कानून’ है , और इसी दौरान निर्मला सीतारमण ने लोगो से अपील करते हुए कहा की हमलोग सब मिल कर काम करेंगे ताकि हमे अच्छे परिणाम मिल पाए।

इसी बिच एक व्यक्ति ने वित्त मंत्री से सवाल किया की हर कोई मानता है कि जीएसटी को गुड्स एंड सिंपल टैक्स होना चाहिए. हम व्यापार करने के उद्देश्य को जानते हैं. आप कानून की जटिलता को कम करना चाहते थे. उन्होंने कहा कि आप भी एक सुचारू प्रशासन चाहते हैं और सरकार राजस्व बढ़ाने के लिए इच्छुक है.उन्होंने आगे कहा कि अगर हमारी चिंताओं को कानून की संरचना को बदलने के बिना भी संबोधित किया जाता है, तो इससे बहुत अधिक बोझ कम हो जाएगा और हर कोई उस में खुश होगा.

फिर इसे गुड्स एंड सिंपल टैक्स की संज्ञा दी जाएगी. उन्होंने कहा कि आज तक उद्योग, सलाहकार और लेखा परीक्षक सहित हर कोई सरकार को (जीएसटी के लिए) कोस रहा है.

निर्मला सीतारमण ने सवाल पूछने वाले व्यक्ति को दिल्ली में मिलने को कहा और कहा की इस बात पर चर्चा करेंगी।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap