आखिर क्यों है इस बार का करवाचौथ इतना खास, जाने पूरी खबर को


चांद की रोशनी ये पैगाम लाई है, करवाचौथ पर सबके मन में खुशियां छाई है,

इस बार करवाचौथ का त्यौहार 17 अक्टूबर को पड़ रहा है, इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती है, और सुबह सुर्या निकलने से पहले और शाम को सुर्यादय होने के बाद अपना व्रत तोड़ती है, माना जाता है कि जो सुहागन महिलाएं ये व्रत रखती है, उनके पति की उम्र लंबी होती है और उनका गृहस्त जीवन सुखी रहता है, इसका बार का करवाचौथ बेहद खास है।

ये करवाचौथ खास क्यो है आइए बताते है।

इस बार का करवाचौथ इसलिए खास है क्योंकि 70 साल के बाद इस बार करवाचौथ पर शुभ संयोग बन रहा है, इस बार रोहिणी नक्षत्र के साथ मंगल का योग होना करवाचौथ को अधिक मंगलकारी बना रहा है, ज्योतिषि के अनुसार रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणा का योग होने से मारकंडे और सत्यभामा योग इस करवाचौथ पर बन रहा है, पहली बार करवाचौथ का व्रत रखने वाली महिलाओं के लिए ये व्रत बहुत अच्छा है, बता दें कि पुराणों के अनुसार चंद्रमा नक्षत्र में रोहिणी नक्षत्र अधिक प्रिय है ।

बता दें कि इस बार का व्रत 13 घंटे 56 मिनट का होने वाला है, चांद रात को लगभग 8:18 बजे निकलेगा, करवाचौथ के व्रत पर पूरा दिन निर्जल व्रत रख कर सोहला श्रृंगार करके महिलाएं केवल परंपरा ही नही निभाती बल्कि ये व्रत पति पत्नि के प्रेम और समर्पण को भी दर्शाता है.

पति की लंबी उम्र के लिए पूरा दिन भूखी प्यासी पत्नि जब चांद की पूजा के बाद पति का चेहरा देखती है, तो उनके मन में एक दूसरे के लिए प्यार और भी बढ़ जाता है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap