इस दिन मनाई जाएगी अहोई अष्टमी, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त


करवाचौथ के बाद अहोई माता का व्रत रखा जाता है। इस बार अहोई माता का व्रत 21 अक्टूबर को पड़ रहा है।

करवाचौथ के बाद अहोई माता का व्रत रखा जाता है। इस बार अहोई माता का व्रत 21 अक्टूबर को पड़ रहा है। इस दिन अहोई माता यानि पार्वती माता की पूजा की जाती है। ये व्रत हर मां अपने बच्चों के लिए करती हैं।

माना जाता है इस दिन मां अपने बच्चों की लंबी आयु और सलामती के लिए व्रत करती हैं। कुछ महिलाओं को संतान नहीं होती उन महिलाओं के लिए ये व्रत बहुत अच्छा होता है। अहोई अष्टमी का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है।

कैसे करें अहोई माता का व्रत

Image result for ahoi ashtmi

जो महिलाएं अहोई का व्रत रखती है उन्हें सुबह उठकर सबसे पहले स्नान करना चाहिए उसके बाद अहोई माता की आकृति गेरु से दीवाल पर बनाये और सूर्यास्त के बाद उसकी पूजा करें। इस दौरान महिलाएं कथा सुनती है और अहोई माता की पहनी हुई माला को पूजा के बाद अपने गले में पहनती है। इसके बाद चंद्रमा को जल चढ़ाकर अपना व्रत खोलती हैं।

पूजा का शुभ मुहूर्त
अहोई की पूजा आप शाम को 5 बजकर 42 मिनट से शाम 6 बजकर 59 तक कर सकती है। पूजा की अवधि का मुहूर्ति सिर्फ 1 घंटे 17 मिनट का है।

करवाचौथ शुरु होते ही त्यौहारों की झड़ी लग जाती है। करवाचौथ के बाद अहोई माता का व्रत और फिर धनतेरस। इस बार धनतेरस 25 अक्टूबर को पड़ रही है उसके बाद 26 को छोटी दीवाली और 27 को बड़ी दीवाली है। बड़ी दीवाली के बाद गोवरधन और फिर भाई दूज मनाया जाएगा।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap