दिवाली के अगले दिन का हाल , हवा में प्रदूषण की मात्रा बढ़ी


दीपों का त्योहार दिवाली कल रात खत्म हो गया | लोगों ने बहुत ही खुशी से इस त्यौहार को मनाया, लेकिन दिवाली के अगले दिन यानी आज की सुबह सामान्य दिनों से कुछ अलग हैं | हवा में कुछ तीखापन है, आसमान में धुआं-धुआं सा है और सड़कें तो पटाखों के कूड़े से भरी हुई हैं| राजधानी दिल्ली हो, लखनऊ हो या फिर कोई और शहर, हर जगह का ऐसा ही हाल है भले ही हर जगह प्रदूषण की वजह से कम पटाखे जलाने की बात हो रही हो, स्वच्छता अभियान को लेकर माहौल बनाया जा रहा हो लेकिन इसका कोई असर नहीं दिख रहा है |

राजधानी दिल्ली में हर बार की तरह इस बार भी दिवाली की अगली सुबह धुंए और प्रदूषण से भरी हुई थी | रविवार को शुरुआत में तो दिल्ली में कम पटाखे जले, सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर इस बात की बधाई दे दी थी | लेकिन 8 बजे के बाद दिल्ली में फिर पटाखों की धूम दिखी, सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की गई और अब सोमवार की सुबह दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पीएम 10 और पीएम 2.5 लेवल 950 तक पहुंच गया |

अगर आपके पास एंड्रॉइड फोन है तो यहां आपके आस-पास की हवा में प्रदूषण का हाल मिलेगा

रविवार देर रात के वक्त ITO इलाके में पीएम 10 और पीएम 2.5 का स्तर 900 तक पहुंचा, वहीं सुबह के वक्त यह आंकड़ा 255 स्तर पर भी पहुंचा. 255 भी प्रदूषण के लिहाज से खतरनाक स्थिति है |

नोएडा में वायु गुणवत्ता सूचकांक 356 चला गया है, जो दिल्ली में दर्ज वायु गुणवत्ता सूचकांक 306 से काफी अधिक है। इसी तरह मुरादाबाद में वायु गुणवत्ता सूचकांक 340 पहुंच गया। यहां पटाखे फोड़े जाने से हवा जहरीली हो गई। लोगों को सांस लेने में तकलीफ हुई। लोग मुंह पर मास्क लगाकर सोमवार सुबह नजर आए। रविवार को गाजियाबाद वायु गुणवत्ता सूचकांक 390 दर्ज किया गया। जबकि, पीएम 2.5 और पीएम-10 सामान्य से चार गुना अधिक पहुंच गया। यहां नेशनल हाईवे 24 और इंदिरापुरम में सबसे खराब वायु गुणवत्ता रही।

लखनऊ में भी दिवाली का त्योहार धूमधाम से मना. लेकिन अगली सुबह की जो तस्वीरें सामने आई वो चेहरे पर खुशी नहीं लाती हैं. लखनऊ नगर निगम के पास ही दिवाली के अगले दिन सड़कों पर कूड़ा फैला हुआ है, हर जगह पटाखों का कूड़ा पड़ा है जो साफ दिखाता है कि रविवार रात को दिवाली तो धूमधाम से मनाई गई लेकिन इस बीच ना प्रदूषण का ख्याल रखा गया और ना ही स्वच्छता अभियान का |

ना सिर्फ लखनऊ, बल्कि दिल्ली, मुरादाबाद समेत कई बड़े शहरों का यही हाल है. जहां पर सड़कों पर पटाखों का कचरा गिरा हुआ है |

दिवाली के अगले दिन हवा थोड़ी ज़हरीली हो रही है और लोग इससे बचने के लिए एक बार फिर मास्क निकाल चुके हैं| दिल्ली हो या फिर गाज़ियाबाद हर जगह सोमवार सुबह बाजार या दफ्तर की तरफ निकलते हुए मास्क लगाते हुए नज़र आए | हालांकि, नॉर्थ इंडिया से इतर मुंबई में दिवाली का अगला दिन इतना खतरनाक नहीं है | यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स गुड की कैटेगिरी में आया है |

वायु गुणवत्ता सूचकांक के तहत 0-50 को अच्छा तो 51-100 को संतोषजनक माना जाता है वहीं, 101-200 को मध्यम तो 300 को खराब माना जाता है। वहीं, 400 के बाद को बेहद खराब और 500 के पार को अत्यंत खराब माना जाता है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap