कश्मीर घाटी में आज 65000 स्टूडेंट दे रहे हैं 12 वीं की परीक्षा, 3 महीने से नहीं की कोई क्लास अटेंड


जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 हटने के बाद से ही घाटी में हालात नाजुक बने हुए थे। इसी बीच खबरें आ रही हैं कि बुधवार से 12 वीं कक्षा की बोर्ड परिक्षाएं शुरु हो गई है।

जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 हटने के बाद से ही घाटी में हालात नाजुक बने हुए थे। इसी बीच खबरें आ रही हैं कि बुधवार से 12 वीं कक्षा की बोर्ड परिक्षाएं शुरु हो गई है। घाटी में बच्चों की परीक्षाओं को देखते हुए सख्त इंतजाम किए गए हैं। कड़ी सुरक्षा के बीच घाटी में 65000 स्टूडेंट ये परीक्षा दे रहे हैं।

कश्मीर घाटी में लगी पाबंदियों और कठिन हालातों को देखते हुए बच्चों ने तीन महीने से कोई क्लास अटेंड नहीं की है। 5 अगस्त के बाद से ही कश्मीर घाटी में सुरक्षाबल तैनात है। अनुच्छेद 370 हटने के बाद से ही वहां फोन, लैंडलाइन की सुविधाएं बंद कर दी गई थी।

परीक्षाओं को लेकर छात्र-छात्राओं ने अलग-अलग तरीके की प्रतिक्रिया दी है। कुछ बच्चों ने तीन महीने तक स्कूल में न जा पाने का दुख जताया है तो वहीं कुछ छात्रों ने इस बात पर खुशी जताई है कि सरकार ने दो माह की ट्यूशन फीस माफ कर दी है।

बता दें, दसवीं की परीक्षा मंगलवार से शुरु हो गई थी। बोर्ड परीक्षाओं के लिए पूरे कश्मीर में 625 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। बोर्ड अधिकारियों का कहना है कि बच्चे परीक्षाएं अच्छे से दे रहे हैं माहौल बेहद सामान्य है।

बीते दिन शाम को बोर्ड अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर डिवीजन के लगभग 65000 छात्र और विंटर जोन जम्मू डिवीजन के 24000 छात्र दसवीं कक्षा की परीक्षा के लिए उपस्थित हुए। इनके लिए क्रमश 615 और 296 केंद्र बनाए गए थे। परीक्षाओं में 99 प्रतिशत छात्र उपस्थ्ति हुए, जो पूरी तरह सुरक्षित माहौल में परीक्षा देकर वापस गए।

हालांकि मंगलवार को पुलवामा में बुलेट-प्रूफ सीआरपीएफ पोस्ट पर आतंकी हमले की खबर ने भी माता-पिता को चिंता में डाल दिया था। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में कोई भी नुकसान नहीं हुआ है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap