BSNL का उल्टा दाव, अपने यूजर्ज को देगा कॉलिंग के बदले पैसा


बीएसएनएल ने जियो से उल्टा दाव खेला है। कंपनी ने ऐलान किया है कि कंपनी कॉलिंग के पैसे लेगी नही बल्कि देगी। कंपनी के इस प्लान से अन्य मोबाइल कंपनियों को कड़ी टक्कर मिलने की संभावना है।

टेलीकाम सेक्टर में चल रही प्रतिस्पर्धा के चलते पहले सस्ती कॉल रेट आई। इसके बाद फ्री में कॉल करने की सुविधा आई। अब कॉल करने पर पैसा मिलने की सुविधा भी आ गई है। हालांकि यह सुविधा रिलायंस जियो ने नहीं सरकारी कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने दी है। जहां अभी तक रिलायंस जियो अपने जियो यूजर्स से नॉन कॉलिंग पर पैसे ले रही है तो वहीं अब भारत की सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल अपने यूजर्स को पैसे देगी ।

जी हां बीएसएनएल ने जियो से उल्टा दाव खेला है। कंपनी ने ऐलान किया है कि कंपनी कॉलिंग के पैसे लेगी नही बल्कि देगी। कंपनी के इस प्लान से अन्य मोबाइल कंपनियों को कड़ी टक्कर मिलने की संभावना है। इस नए प्लान के अनुसार बीएसएनएल अब उन लोगों को 6 पैसे प्रति काल देगा जो 5 मिनट से ज्यादा की कॉल, बीएसएनएल के इस नए प्लान के तहत 5 मिनट या इससे ज्यादा कॉल करने पर यूजर के अकाउंट में 6 पैसे जुड़ जाएंगे ।

बीएनएनएल अपने सभी ग्राहकों को यह ऑफर दे रहा है। इसका फायदा बीएसएनएल वायर लाइन, ब्रॉडबैंड और एफटीटीएच ग्राहकों को मिलेगा। उम्मीद है कि आर्थिक दिक्कत में चल ही बीएसएनएल को इस नए प्लान से ज्यादा ग्राहक और रेवेन्यू मिल सके।

बीएसएनएल फिलहाल घाटे में चल रही है और कर्मचारियों की छंटनी भी हो रही है….कई बार रिपोर्टस आई है कि कंपनी का मर्जर हो सकता है, लेकिन अब तक कुछ साफ नहीं हुआ है।

बीएसएनएल के डायरेक्टर CFA VIVEK BANAZL ने एक स्टेटमेंट मे कहा है कि, डिजिटल एक्सपेरिएंस के जमाने में जहां कस्टमर्स अपने वॉयस और डेटा के लिए क्वॉलिटी सर्विस चाहते हैं, हम अपने कस्टर्मस के अपग्रेडेड नेक्स्ट जेनेरेशन नेटवर्क से इंगेज करना चाहते है, ताकि उन्हें बेहतर एक्सपीरिएंस मिस सकें।

बीएसएनएल ने कहा है कि ये 6 पैसे का कैशबैक ऑफर देश के सभी बीएसएनएल वायरलाइन, FTTH और ब्रॉंडबैंड कस्टमर्स के लिए है.

बीएसएनएल के इस नए प्लान से क्या कंपनी के यूजरबेस मे इजाफा होगा या नही, ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा, लेकिन इससे जियो यूजर्स को नाराजगी हो सकती है, क्योंकि भई अब जियो यूजर्स को नोन जियो कॉलिंग के लिए पैसे देने पड़ रहे है।

सम्पादक : केहकशा

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap