दिल्ली एनसीआर में हेल्थ इमरजेंसी, 5 नवंबर तक स्कूल के साथ साथ सरकारी दफ्तरों के समय में भी बदलाव


ईपीसीए ने दिल्ली, हरियाणा और यूपी के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा है. जिसमें कहा है कि वह प्रदूषण रोकने के लिए कठोर कदम उठाए. बता दें कि दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स 470 पर है, जो कि खतरनाक स्तर पर है.

राजधानी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता का स्तर लगातार गिरता जा रहा है. जिसके चलते दिल्ली सरकार ‘स्वास्थ्य आपातकाल’ की घोषणा की है. साथ ही दिल्ली के सभी स्कूलों को पांच नवंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. इसकी के साथ सुप्रीम कोर्ट के विशेषज्ञ पैनल पर्यावरण प्रदूषण प्राधिकरण राजधानी सहित पूरे एनसीआर में पांच नवंबर तक सभी निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया है और दिल्ली में सभी सरकारी दफ्तरों का समय भी बदल दिया गया है.

दिल्ली और आसपास के इलाकों में तेजी से बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर शुक्रवार को ईपीसीए की बैठक हुई. बैठक के बाद चेयरमैन भूरेलाल ने कहा कि दिल्ली-एनसीआई में वायु की गुणवत्ता को सुधारने के लिए पंजाब और हरियाणा सरकार को पराली जलाने वालों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि, प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में पांच नवंबर तक स्टोन क्रेशर और हॉट मिक्स प्लांट सहित कोयले से चलने वाली सभी फैक्ट्रियों को बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं.

इसी के साथ दिल्ली-एनसीआर में सर्दियों के मौसम में पटाखे चलाने पर पाबंदी रहेगी. भूरेलाल ने कहा कि दिवाली के बाद पटाखों और पराली के धुएं ने प्रदूषण के स्तर को खतरनाक तरीके से बढ़ा दिया है. इसके अलावा ईपीसीए ने दिल्ली, हरियाणा और यूपी के मुख्य सचिवों को पत्र लिखा है. जिसमें कहा है कि वह प्रदूषण रोकने के लिए कठोर कदम उठाए. बता दें कि दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स 470 पर है, जो कि खतरनाक स्तर पर है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर राजधानी के सभी स्कूलों में पांच नवंबर तक छुट्टी की घोषणा की. उन्होंने कहा कि पराली के धुंए के कारण दिल्ली में प्रदूषण उच्च स्तर पर पहुंच गया है. इसलिए सरकार ने सभी स्कूलों को पांच नवंबर तक बंद रखने के का फैसला किया है.

क्या है प्रदूषण का पैमाना

बता दें कि एक्यूआई जब 0-50 होता है तो इसे अच्छी श्रेणी का माना जाता है. वहीं 51-100 के स्तर को संतोषजनक माना जाता है. इसके अलावा 101-200 को मध्यम और 201-300 को खराब के स्तर पर रखा गया है. वहीं 301-400 को अत्यंत खराब और 401-500 को गंभीर माना गया है. वहीं 500 से ऊपर एक्यूआई को बेहद गंभीर और आपात की श्रेणी में रखा गया है.

बता दें कि आईआईटी दिल्ली के पास इनदिनों पीएम 10 का स्तर 518 है. वहीं पीएम 2.5 का स्तर 462 है. वहीं आईजीआई एयरपोर् के आसपास पीएम 10 का स्तर 519 और पीएम 2.5 का स्तर 510 है. इसके अलावा लोधी रोड के आसपास पीएम 10 का स्तर 409 है और पीएम 2.5 का स्तर 477 माना गया है.

संपादक : शिवम् गुप्ता

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap