AIF चीफ का बड़ा बयान कहा HAL से खरीदें जायेंगे 300 फाइटर प्लेन


हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एक वरिष्ठ रक्षा मंत्रालय के अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि इस सौदे पर सरकार को कई अरब डॉलर की लागत आएगी.

वायुसेना प्रमुख एयर मार्शल आरके सिंह भदौरिया ने स्वदेशी लड़ाकू विमानों को खरीदने का बड़ा निर्णय लिया है. भदौरिया ने हाल ही में वायु सेना प्रमुख का पदभार संभाला था. भारतीय वायु सेना (आईएएफ) ने सरकार से कहा है कि वह हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के लगभग 300 स्वदेशी रूप से निर्मित लड़ाकू विमानों और बेसिक ट्रेनर को खरीदना चाहती है.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एक वरिष्ठ रक्षा मंत्रालय के अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि इस सौदे पर सरकार को कई अरब डॉलर की लागत आएगी. रिपोर्ट के अनुसार आईएएफ का कहना है कि विमान का डिजाइन, निर्माण और वितरण को निर्धारित समय सीमा के भीतर होना चाहिए. 

अधिकारी ने कहा “एरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) और एचएएल को एक साथ आना होगा. एडीए रक्षा अनुसंधान विभाग और रक्षा मंत्रालय के तहत काम करता है और भारत के एलसीए (हल्के लड़ाकू विमान) कार्यक्रम की देखरेख करता है. IAF ने सरकार से कहा है कि वह तेजस मार्क- II के 10 स्क्वाड्रन को खरीदने के लिए प्रतिबद्ध है. लड़ाकू विमानों के अलावा, IAF ने सरकार से यह भी कहा है कि वह नए बने ट्रेनर विमान HTTP -40 को भी खरीदेगी.

IAF ने तेजस के शुरुआती संस्करण के 40 लड़ाकू विमानों को पहले भी खरीदा था. रिपोर्ट के अनुसार एक अधिकारी ने कहा 83 स्वदेशी रूप से निर्मित तेजस मार्क -1 फाइटर्स की खरीद के लिए अंतिम अनुबंध पर वर्तमान वित्तीय के अंत तक हस्ताक्षर किए जाएंगे. भारतीय वायुसेना और एचएएल के बीच बातचीत अंतिम चरण में है.

सम्पादक : शिवम् गुप्ता

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap