जेएनयू में छात्रों का उग्र प्रदर्शन, जानें क्या हैं छात्रों की मांगे


जेएनयू में छात्रों का विरोध मार्च हॉस्टल फीस बढ़ोतरी और ड्रेस कोड के मसले पर हो रहा है, छात्र, वाइस चांसलर के खिलाफ जेएनयू कैंपस के बाहर उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं.

जेएनयू में देढ़ महीने के विरोध के बाद छात्र अब प्रदर्शन पर उतर आए है, जहां एक तरफ जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी में आज तीसरे दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया हैं, वहीं जेएनयू के बाहर छात्र प्रदर्शन कर रहें है, बता दें कि पिछले देढ़ महिने से हॉस्टल की फीस बढ़ने से छात्र प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन आज जब यूनिवर्सिटी नें दीक्षांत समारोह हो रहा है तो छात्र का प्रर्दशन बढ़ गया है जिसे कंट्रोल में करने के लिए सीआरपीएफ तैनात की गई है,

पुलिस ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के ऑडिटोरियम से पहले जहां समरोह हो रहा है, वहां पर बेरिकेडिंग लगा कर छात्रों को रोका गया है। इसके चलते नेल्सन मंडेला मार्ग पर जाम लग गया है। वहीं, पुलिस छात्रों से अनुरोध कर रही है कि शांति व्यवस्था बनाए रखें।

लेकिन छात्र अपनी मांग पर अड़े हुए है, छात्रों का कहना है कि जब उनकी फीस में कटौती की मांग को स्वीकार नहीं किया जा रहा तो उन्हें दीक्षांत समारोह मंजूर नहीं है
जेएनयू छात्र संघ विरोध मार्च निका रहे हैं,

छात्रों की मांग है कि हॉस्टल में कोई सर्विस चार्ज ना लिया जाए, ना ही हॉस्टल में कोई ड्रेस कोड लागू किया जाए, इसके अलावा छात्रों की मांग है कि हॉस्टल में आने-जाने के टाइम की पाबंदी को खत्म किया जाए.
हॉस्टल फीस बढ़ोतरी का मामला यूनिवर्सिटी में काफी आगे बढ़ चुका है और इसका कोई हल नहीं निकला जा रहा है, छात्र संघ ने छात्रों से अपील करते हुए ज्यादा से ज्यादा संख्या में जुटने और मार्च में शामिल होने के लिए कहा है, छात्र संघ का कहना है कि जब छात्रों का सस्ती शिक्षा नहीं मिल रही तो दीक्षांत समारोह की क्या जरूरत है.

क्यों प्रदर्शन कर रहे है जेएनयू छात्र

दरअसल, यूनिवर्सिटी ने 23 अक्टूबर से जेएनयू कैंपस के गेट बंद करने का नया नियम लागू किया था. इसकी जानकारी अंतरराष्ट्रीय अध्ययन विभाग के डीन की ओर से मिले एक नोटिस के जरिए छात्रों को ये दी गई. इस नोटिस में रूम नंबर 16, कॉमन रूम्स और एसआईएस 1 व एसआईएस टू के मेन गेट को लेकर नया नियम लागू किया गया है.

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (AISA) ने प्रशासन पर कैंपस के गेट शाम छह बजे के बाद बंद करने के नए नियम पर विरोध जताया. AISA ने कहा कि कैंपस के गेटों को शाम छह बजे बंद कर देना आवाजाही की स्वतंत्रता को सीमित करना है। साथ ही छात्रों की मांग है कि हॉस्टल में ड्रेस कोड नहीं लागू किया जाए,

नया हॉस्टल मैन्यू पूरी तरह रद किया जाए।
हॉस्टल में छात्रों से कोई सर्विस चार्ज नहीं लिया जाए।
हॉस्टल में आने-जाने के लिए समय सीमा को खत्म किया जाए।
साथ ही उनका यह भी कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जातीं प्रदर्शन जारी रहेगा, तो अब देखना ये होगा कि छात्रों की मांग कब पूरी होती है।

संपादक : केहकशा

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap