एक हफ्ते में दो दो मौतों से तिहाड़ जेल में हड़कंप, लोगो ने कहा जेल नहीं कैदियों के लिए है कब्रगाह


तिहाड़ का तिलिस्म कोई समझ नहीं पा रहा है. तिहाड़ जेल में बंद कैदी और तिहाड़ जेल का संचालन कर रहा जेल-प्रशासन भी इसका तिलिस्म समझ नहीं पा रहा है.

तिहाड़ जेल मेें एक सप्ताह के भीतर एक मुजरिम और एक विचाराधीन हाईप्रोफाइल कैदी की मौत हो गई. इसके बाद तिहाड़ के भीतर सनसनी मच गई है. तिहाड़ का तिलिस्म कोई समझ नहीं पा रहा है. तिहाड़ जेल में बंद कैदी और तिहाड़ जेल का संचालन कर रहा जेल-प्रशासन भी इसका तिलिस्म समझ नहीं पा रहा है.

जेल प्रशासन और जेल कैदी सब एक-दूसरे को शक की नजर से देख रहे हैं. सबकी आंखों में एक ही सवाल है, “अब पता नहीं अकाल मौत का अगला निवाला कौन होगा.” जेल स्टाफ पर भी इन मौतों के कारण सवालिया निशान लग रहे हैं. जो तिहाड़ जेल एशिया की सबसे सुरक्षित जेल मानी जाती थी, लोगों को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर उसमें कैदी आए दिन क्यों और कैसे मर रहे हैं?

कैदी खौफ में हैं कि पता नहीं अकाल मौत के मुंह में जाने वाला अगला कैदी कौन होगा? बता दें कि पिछले दिनों तिहाड़ में जासूसी के आरोप में बंद फौज के पूर्व अधिकारी की मौत हो गई थी. जेल जाने के अगले दिन ही संदिग्ध हालात में उनकी छत से गिरने के कारण मौत हो गई थी. अभी इस मामले की न्यायिक जांच पूरी भी नहीं हुई थी.

तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, “दोनों ही मामलों की जांच चल रही है. फिलहाल जांच रिपोर्ट आने से पहले कुछ तथ्यात्मक कह पाना मुश्किल है. रोहिणी जेल में बंद कैदी हनी शर्मा दिल्ली के ही मोहन गार्डन का रहने वाला था. उसे लूट के एक मामले में 6 साल की सजा हुई थी.”

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap