साध्वी प्रज्ञा का गोडसे को देशभक्त कहना पड़ा भारी, रक्षा समिति से हुई बहार


भोपाल से बीजेपी की सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर एक बार फिर बड़े विवाद में फंस गई हैं. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का महिमामंडन करना उन्हें भारी पड़ गया. संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति से निकाल दिया है. बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी उन पर बड़ी कार्रवाई की बात कही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रज्ञा को बीजेपी पार्टी से भी निष्कासित कर सकती है. इसके अलावा सत्र के दौरान होने वाले बीजेपी संसदीय दल की बैठक में भी प्रज्ञा को नहीं आने का फरमान सुनाया गया है. जेपी नड्डा ने बताया कि प्रज्ञा के खिलाफ पार्टी की अनुशासन समिति बड़ी कार्यवाही करेगी. 

जेपी नड्डा ने कहा कि संसद में उनका बयान निंदनीय है. पार्टी कभी इस तरह के बयान या विचारधारा से सहमत नहीं है और बयान का समर्थन भी नहीं करती. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी प्रज्ञा के बयान पर कड़ी निंदा की है. राजनाथ सिंह ने कहा कि साध्वी प्रज्ञा का बयान शर्मनाक है.

दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा मामले पर हंगामा किया. लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “साध्वी प्रज्ञा ने लोकसभा में कांग्रेस को एक आतंकवादी पार्टी कहा जिस पार्टी से हजारों नेताओं ने देश की आजादी के लिए बलिदान दिया था. यह क्या हो रहा है? क्या सदन इस पर चुप रहेगा? महात्मा गांधी के हत्यारे को ‘देशभक्त’ कहा गया.”

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap