खेतों में फसलों को बरबाद होने से बचाने के लिए गांव के एक शख्स ने खोज निकाला नया तरीका


सरकार नहीं करेगी मदद तो हम खुद ही ढूंढ लेंगे हल, ये शब्द भारतीय किसानों के है जिनकी आर्थिक स्थिति सुधरने का नाम ही नहीं ले रही है. भारतीय किसान अपनी दशा का बखान करें तो किससे. कभी प्राकृतिक आपदा, तो कभी जानवरों से अपनी मेहनत की फसल को बरबाद होने से बचाने के लिए अपनी पूरी दम लगा दे रहे हैं. ऐसे ही कर्नाटक में किसानों ने हैरान कर देने वाला तरीका ढूंढा है. कर्नाटक में कॉफी और सुपारी की फसल को बंदरों से बचाने के लिए शिवमोगा जिले के किसानों ने अपने पालतू कुत्तों को रंग से बाघ में बदल दिया है. यह बात न्यूज एजेंसी एएनआइ को नलूरू गांव के रहने वाले श्रीकांत गौड़ा ने बताई.

न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में उनका कहना है कि, पहले अपनी फसल को बचाने के लिए बाघ जैसे खिलौने का प्रयोग किया था लेकिन बंदरो पर उनका कोई असर नहीं पड़ा. उन्होंने बाघ जैसे खिलौने गोवा से मंगवाए थे. इन खिलौने का रंग हल्का पड़ते ही बंदर फिर वापस आ गए. पूरी फसल खराब कर दी. सारी फसल खराब कर दी. इसके बाद फिर पालतू कुत्तों को बाघ की तरह रंगने का तरीका ढूंढ़ा गया.

एएनआइ से बातचीत के दौरान श्रीकांत ने बताया कि बुलबुल (पालतू कुत्ते का नाम) को खेतों में ले जाते ही सभी बंदर भाग जाते हैं. श्रीकांत ने आगे बताया कि, बुलबुल को सिर्फ सुबह और शाम को ही खेतों में ले जाता हूं. अब बंदर खेतों से दूर रहते हैं. वहीं श्रीकांत गौड़ा की बेटी अनन्या ने बताया कि उनकी पिता की तरकीब को अब गांव में सभी लोग इस्तेमाल कर रहे हैं.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap