कैलिफ़ोर्निया की एक लड़की ने टिकटॉक कंपनी पर डेटा चुराने के आरोप में दर्ज कराया मुकदमा


टिकटॉक एक वीडियो ऐप है, जो ख़ासतौर पर युवाओं के बीच काफ़ी लोकप्रिय है. टिकटॉक की पेरेंट कंपनी ‘बाइट डांस’ का मुख्यालय बीजिंग में है यह ऐप काफ़ी लोकप्रिय है. भारत से लेकर अमेरिका तक. इस कंपनी पर कैलिफोर्निया का अदालत ने आरोप लगाया गया है कि, कंपनी बिना यूज़र्स की सहमति के उनके डेटा “चुपके” से इकट्ठा कर रही है और उसे चीन भेजा जा रहा है. टिकटॉक के दुनियाभर में क़रीब 50 करोड़ एक्टिव यूज़र्स हैं.

लेकिन कंपनी का कहना है कि वह अमरीकी यूज़र्स के डेटा को चीनी सर्वर पर स्टोर नहीं करती है. वहीं मुक़दमे में दावा किया गया है कि कंपनी चोरी-छिपे अमरीकी यूज़र्स के डेटा का सफ़ाया कर रही है और उसे चीन के सर्वर में ट्रांसफ़र कर दिया गया है. इसमें बड़ी मात्रा में निजी और व्यक्तिगत रूप से पहचान किए जाने वाले डेटा हैं. इसके साथ ही यह आरोप भी लगाया है कि डेटा का उपयोग वर्तमान और भविष्य में यूज़र्स की पहचान कर अमेरीका में चिह्नित करने के लिए किया जा सकता है.

टिकटॉक कंपनी पर मुकदमा दर्ज करने वाली लड़की

ये मुक़दमा एक लड़की के द्वारा दायर किया गया है, मिस्टी हॉन्ग कैलिफ़ोर्निया की एक यूनिवर्सिटी में पढ़ रही हैं. हॉन्ग ने बताया कि इस साल जब उन्होंने अपने मोबाइल में टिकटॉक ऐप इंस्टॉल किया तो उस पर अकाउंट पहले से ही मौजूद था. उनका आरोप है कि महीनों बाद कंपनी ने ख़ुद से उनका अकाउंट बनाकर, चुपके से उन वीडियो को ले लिया, जिन्हें वो पब्लिश नहीं करना चाहती थीं.

टिकटॉक ऐप को ऐप स्टोर से हटाने की वजह

ये डेटा चीन के टेनसेंट और अलीबाबा के सर्वरों को भेज दिया गया. टिकटॉक ने इस पर टिप्पणी के अनुरोधों पर कोई जबाव नहीं दिया है. इसी साल अप्रैल में तमिलनाडु की एक अदालत ने टिकटॉक ऐप को कई ऐप स्टोर से हटाने का आदेश दे दिया था. अदालत का कहना था कि इस ऐप के ज़रिए पोर्नोग्राफ़ी से जुड़ी सामग्री पेश की जा रही है. हालांकि कुछ हफ़्तों बाद इस बैन को हटा लिया गया था.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap