प्याज की फसल करने वाले किसानों को रहना होगा चोरों से सावधान


आपके प्याज पर चोरों की नजर है. प्याज के बढ़ते दामों की वजह से चोरों को भी प्याज की चोरी लुभाने लगी है.

खेती फसलें सस्ती हो तो नींद न आवे मंहगी हो तो सो न पावे

जी हां, ये दो लफ्ज़ हाल बयां कर रहे हैं किसान का, जो खेत में खड़ी प्याज की फसल पर दिन-रात पहरा दे रहे हैं. क्योंकि उन्हें अपनी फसल किसी के द्वारा चुरे जाने का डर है. जाहिर सी बात है जो प्याज खाने का आदी हो चुका हो. तो ऐसे मंहगे दौर में प्याज खरीदने की स्थिति में तो नहीं होगा इसलिए सामने खड़ी फसल में तो चुपके से थोड़ा बहुत ले जाने की सोचेगा ही. इसी वजह से किसान अपने खेतों से निगाह नहीं हटा रहे हैं
निगाह हटी, दुर्घटना घटी वाली कहावत हो जा रही है. ये बिल्कुल सच है किसान अपनी प्याज की फसल को पैदा करने में कड़ी मेहनत कर रहे हैं. जिससे अगर अच्छी हो जाएगी तो ज्यादा दामों में बिक जाएगी.

चोरों की है नज़र
क्योंकि आपके प्याज पर चोरों की नजर है. प्याज के बढ़ते दामों की वजह से चोरों को भी प्याज की चोरी लुभाने लगी है. फिर चाहे मंडी में रखा प्याज हो या खेत में खड़ी प्याज की फसल. देशभर में कई जगहों से प्याज की चोरी के मामलों की खबर सुनकर धनीपुर मंडी में प्याज के आढ़ती, प्याज की खेती करने वाले किसान रातभर जागकर प्याज की रखवाली कर रहे हैं.

नो लॉस नो प्रोफिट
जिले में होती है छह सौ हेक्टेयर में प्याज: रबी के सीजन में जिले में 600 हेक्टेयर में एएलआर प्रजाति की प्याज की खेती होता है. एनएचआरडीएफ सब्सिडी पर किसानों को बीज उपलब्ध कराती है. प्रदेश सरकार की ओर सभी मंडी सचिवों को अपने अपने जिले में नो लॉस नो प्रोफिट पर प्याज बेचने के लिए आदेश दिए हैं.

हंगर इंडेक्स
अंतराष्ट्रीय हंगर इंडेक्स द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत 102वें नंबर पर है. भारत अच्छी हालत बांग्लादेश और पाकिस्तान की है. खुशियों के इंडेक्श में हमारी गिनती दुनिया के सबसे ज्यादा परेशान लोगों में होती है. एक वजह यह भी है, इसलिए यहां प्याज व लहसुन जैसी चीजों की चोरी होती है.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap