उन्नाव हत्याकांड मामले की गहराई से हो रही जांच


हैदराबाद कांड के बाद उन्नाव में हुआ रेप के बाद जलाने वाले कांड में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है. आपको बता दें कि चार्जशीट में लड़की के मरने से पहले लिए गए बयान् है जिसके आधार पर ही आरोपियों को सजा दी जाएगी.

पेट्रोल कहां से लाया गया था
जानकारी के मुताबिक, इस मामले में पांच आरोपी शुभम, शिवम त्रिवेदी, हरिशंकर, उमेश और रामकिशोर के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है. पुलिस के मुताबिक चार्जशीट दाखिल करने से पहले इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस और फोन लोकेशन के जरिए पूरे मामले की पड़ताल की गई, और यह भी पता किया गया कि आखिरकार लड़की को जलाने के लिए पेट्रोल कहां से आया था. जांच में पता चला है कि लड़की को जलाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला पेट्रोल शुभम की बाइक से निकाला गया था. इस मामले में अभी डीएनए और ब्लड रिपोर्ट का अभी इंतजार किया जा रहा है.

डीएनए की होगी जांच
बता दें दुष्कर्म के बाद युवती की पांच दिसंबर को जलाए जाने के अगले दिन मौत हो गई थी. पुलिस ने डीएनए मिलान के लिए पांचों आरोपियों के रक्त के नमूने लिए थे जिनका पीड़िता के डीएनए के साथ इनका मिलान किया जाना है. डीएनए के मिलान के लिए स्थानीय अदालत ने सोमवार को पांचों आरोपियों -शुभम, शिवम, हरि शंकर, उमेश और राम किशोर- के रक्त और डीएनए नमूने लेने के लिए पुलिस को अनुमति दी थी.

युवती के बयानों की हो रही जांच
वहीं उन्नाव के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर का कहना था कि पूरे मामले को वैज्ञानिक सबूतों पर आधारित करेंगे. हमने अब तक इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य एकत्र किए हैं, जैसे आरोपियों के मोबाइल फोन के लोकेशन. उन्होंने शंका जताते हुए कहा कि यह महज संयोग नहीं हो सकता है कि सभी पांच युवक उसी स्थान के पास मौजूद थे, जहां युवती को जलाया गया. साथ ही उन्होंने बताया की आरोपियों के बयान दर्ज कर लिए गए थे लेकिन उनमें विरोधाभास पाए गए.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap