घने कोहरे में जानलेवा दुर्घटनाओं से खुद को कैसे बचाएं जानिए ट्रैफिक मार्शल सुरेश के सुझाव के टिप्स


उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड के साथ ही घना कोहरा भी बढ़ गया है जिसकी वजह से लोगों में सड़क दुर्घटनाएं होने का डर सताया रहता है.

कोहरे के कारण अब तक कई मौतें हो चुकी है. आखिर मौल की क्या है वजह. आइए जानते हैं और ट्रैफिक मार्शल सुरेश की सलाह व सुझाव से कैसे करें खुद को सुरक्षित।

आपकी गाड़ी की रफ्तार पर निर्भर करती है दुर्घटना
चंडीगढ़ के ट्रैफिक मार्शल बताते हैं कि कोहरे के बीच सड़क पर सुरक्षित सफर के लिए चालक का जागरूक होना ज़रूरी है. उन्होंने बताया कि ज्यादातर दुर्घटनाएं इसलिए होती है कि लोग कोहरा होने के बावजूद अपनी गाड़ी की रफ्तार धीरे नहीं करते. उन्होंने कहा कि ये ध्यान रखना ज़रूरी है जितनी आपकी गाड़ी की स्पीड है, उतनी ही दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है.

खुद के और दूसरों के बचाव के टिप्स
– विजिबिलिटी बेहद खराब होने पर सड़क पर कलर की गाइडलाइन को फॉलो करें.
– पैदल, साइकिल और दो पहिया पर चलने वाले संभव हो तो ब्लैक या डार्क कलर के कपड़े न पहनें.
– पैदल, साईकिल और दो पहिया चलाने वाले रेडियम जैकेट पहनें.
– वाहनों पर खासतौर से साईकिल पर रेडियम टेप का इस्तेमाल करें जो लोग स्कूटर या बाईक पर जाते है वो हेलमेट पर भी रे़डियम टेप का इस्तेमाल करें.
– कोहरे में गाड़ी को सड़क पर पार्क न करें, अगर थोड़ी देर के लिए सड़क पर गाड़ी रोक रहे हैं तो दोनों इंडिकेटर ऑन रखें.
– कोहरे के दौरान लो-बीम हेड लाइट का इस्तेमाल करें, धुंध में हाई-बीम हेड लाइट कारगर नहीं होती है.
– कोहरे के कारण विजिबिलिटी कम हो जाती है तो ऐसी स्थिति में फॉग लाइट को उपयोग अवश्य करें या लाइट पर पीली पन्नी लगाएं.

पहने रेडियम जैकेट
इसी तरह ट्रैफिक मार्शल अशोक मनचंदा ने कहा कि कोहरे के कारण होने वाली दुर्घटनाओं में पैदल चलने वाले और साइकिल और बाइक पर सवार हादसों का शिकार बनते हैं. पैदल चलने वाले और दो पहिया वाहन पर सवार लोगों को रेडियम जैकेट पहननी चाहिए. रिफलेक्टर जैकेटों की कीमत 60 से 100 रुपये तक है जो हर किसी के बजट में है. उन्होनें कहा दो पहिया वाहन चालक कोहरे में रिफलेक्टर और रेडियम टेप का इस्तेमाल करें ताकि विजिबिलटी कम होने के बावजूद भी दूर से वो दिखाई दें. मार्शल अशोक ने कहा कि हेलमेट पर भी रेडियम टेप लगानी चाहिए.

ट्रैफिक नियमों का पालन करना सबसे जरूरी
अक्‍सर देखा जाता है कि कोहरे के कारण शीशे धुंधले हो जाते है ऐसे में लोग शीशा साफ किए बिना ही ड्राइव करना शुरू कर देते हैं. ट्रैफिक मार्शल सुखजीत कौर ने बताया कि अगर शीशे धुंधले है तो सबसे पहले उसे कॉटन के कपड़े से साफ करें या इसके लिए पेपर का इस्तेमाल करें. कौर ने बताया कि शीशे पर जमी धुंध को एसी ऑन करके हटाया जा सकता है. ये ध्यान भी ज़रूर रखें अगर आप गाड़ी में हीटर चला रहे हैं तो वेंटिलेशन के लिए शीशा थोड़ा सा खोलकर रखें. उन्होंने बताया कि आजकल की गाडि़यों में नए-नए फीचर्स आ रहे हैं. युवाओं को चाहिए वो इसके बारे में बड़ों को जागरूक करें. उन्होंने कहा कि ड्राइव करते हुए ट्रैफिक नियमों का पालन करना सबसे अहम है.

किस वजह से होता है जानलेवा हादसा
उन्होंने बताया कि ओवरस्पीड ड्राइविंग, ड्रंक एंड ड्राइव, लॉउड म्यूजिक में ड्राइविंग, रेड लाइट जंप, रांग टर्न, रांग साइड-लेन में ड्राइविंग, सड़क किनारे रांग पार्किंग और बिदाउट हेलमेट ड्राइविंग जानलेवा हादसे का कारण बनती हैं. इसके साथ वाहनों की हेड लाइट, फॉग लाइट, इंडिकेटर, ब्रेक, टायर, विंडस्क्रीन वाइपर, बैटरी और कार हीटिंग सिस्टम मेंटेन रखें.

प्रशासन दोबारा बनवाएं सड़कों पर मिटी गाइडलाइन को
ट्रैफिक मार्शल सुरेश शर्मा ने बताया कि सड़कों पर कलर की गाइडलाइन बहुत सारी जगहों पर मिटी हुई है जिसको लेकर प्रशासन को कोहरा शुरू होने से पहले से कदम उठाने चाहिए. इसके साथ ही चालक के जागरूक होने से सड़क हादसों में कमी लाई जा सकती है.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap