साल 2020 तक देश में दो करोड़ के पार पहुंच सकती है वैश्विक पर्यटकों की संख्या


ई-वीजा शुल्क को कम करना, हिमालय की चोटियों को पर्यटकों के लिए खोलना, टूरिस्ट प्लेसों पर विदेशी भाषाओं में संकेत,

एएसआई की साइटों को रोशन करना और भारत की संस्कृति को विदेशों में बढ़ावा देना, ये भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय की ओर से इस साल किए उठाए गए ऐसे सकारात्मक कदम हैं, जिनकी बदौलत साल 2020 तक देश में वैश्विक पर्यटकों की संख्या दो करोड़ के पार पहुंच सकती है.

सरकार ने खोली सबसे ऊंची चोटियों
ट्रेकिंग और अन्य पर्वतारोहण अभियानों के लिए 8,589 मीटर की ऊंचाई पर स्थित शक्तिशाली कंचनजंगा सहित 137 हिमालयी चोटियों सहित 137 हिमालयी चोटियों को पर्यटकों के लिए सरकार ने खोला.

इस सूची में उत्तराखंड की डुनागिरी (7,066 मीटर) और हार्डोल (7,151 मीटर) शामिल हैं. सिक्किम में 7,000 मीटर की ऊंचाई वाला काब्रु उत्तर और दक्षिण हिल, जम्मू और कश्मीर में 6400 मीटर की ऊंचाई वाला माउंट कैलाश और हिमाचल प्रदेश में 6,571 मीटर की ऊंचाई वाला मुल्किला शामिल है.

परमिट दे सकते हैं सीधे भारतीय पर्वतारोहण फाउंडेशन को
अबतक विदेशियों को इन चोटियों पर चढ़ने के लिए रक्षा और गृह मंत्रालयों से अनुमति लेनी पड़ती थी. सरकार के इस कदम के बाद विदेशी पर्यटक अब परमिट के लिए सीधे भारतीय पर्वतारोहण फाउंडेशन को आवेदन कर सकते हैं. पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल ने इसे एक ऐतिहासिक कदम बताया है, जो पर्यटन को एक बड़ा बढ़ावा देगा।

पर्यटन सुविधाओं का करना है निर्माण
उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि अधिक से अधिक पर्यटक देश में आएं. यही कारण है कि अब हम एएसआई स्मारकों को रोशन कर रहे हैं. पटेल ने कहा कि पर्यटन स्थलों को रात में खुला रखना, विदेशी भाषाओं में पर्यटन स्थलों पर संदेश प्रदर्शित करना, स्मारकों के आसपास बुनियादी ढांचे को सुनिश्चित करना, पर्यटन सुविधाओं का निर्माण करना है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap