देवदार के पेड़ सूखने लगे तो वन विभाग सकते में, होगी जाँच


करीब एक हेक्टेयर वन क्षेत्र में देवदार के पेड़ों के सूखने से सकते में आए वन विभाग

देवदार के पेड़

अल्मोड़ा वन प्रभाग के अंतर्गत सोनी बिनसर रानीखेत क्षेत्र में देवदार के पेड़ लगातार सूखते जा रहे हैं. करीब एक हेक्टेयर वन क्षेत्र में देवदार के पेड़ों के सूखने से वन विभाग सकते में आ गया है. दो साल पहले भी यहां 12 देवदार के पेड़ सूख गए थे. वन विभाग ने सूख गए इन पेड़ों को चोरी और जलावनी लकड़ी के प्रयोग से बचाने के लिए वन निगम को लाट बनाकर दिए थे. इस बार फिर देवदार के दो पेड़ सूख गए हैं. डीएफओ ने वन अधिकारियों को वास्तविक कारणों का पता लगाने के लिए जांच के आदेश दिए हैं.

Image From google

देवदार के सूखे 12 पेड़
रानीखेत मार्ग पर सोनी बिनसर के जंगल अल्मोड़ा वन प्रभाग के क्षेत्र में आता है. करीब एक हेक्टेयर वन क्षेत्र में यहां काफी संख्या में देवदार के पेड़ हैं. वन विभाग का यहां गेस्ट हाउस भी है और यह कैंप क्षेत्र भी आता है. वर्ष 2016-17 में यहां करीब 12 देवदार के पेड़ सूख गए. वन विभाग के अधिकारियों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने सूखे पेड़ों के चोरी होने की आशंका के चलते वन निगम को लाट बनाकर दे दिए. इस साल देवदार के दो पेड़ फिर सूख गए हैं. जिससे वन विभाग में हड़कंप मच गया है.

देवदार के पेड़ सूखना पर्यावरण के लिए घातक
वन विभाग के अधिकारियों का मानना है कि यहां लगने वाले मेले के दौरान आने कुछ व्यापारी अपनी दुकान लगाने के लिए देवदार के हरे पेड़ों में कील गाड़ देते हैं. बाद में उन्हें निकाला नहीं जाता है. इसके अलावा मंदिर समिति के अतिक्रमण का भी खतरा है. फिलहाल मामला जो भी हो देवदार के पेड़ों का इस तरह सूखना पर्यावरण के लिए काफी घातक है.

देवदार के पेड़

पौध रोपण की बनाई जा रही योजना
काफी गंभीर मामला है. यहां देवदार के पेड़ पहले भी सूख रहे थे और इस बार भी कुछ पेड़ सूख रहे हैं. इन पेड़ों में गहरे घाव भी बने हैं.

वास्तविकता जांचने के लिए रेंज आफिसर को जांच के निर्देश दिए गए हैं. इसके लिए अलावा उन्हें यहां पौध रोपण की योजना बनाने को भी कहा गया है।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap