निर्भया के दोषियों के खिलाफ जारी हुआ डेथ वारंट, तिहाड़ जेल में मची हलचल


आखिरकार, निर्भया के दरिंदों के खिलाफ दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने आज डेथ वारंट जारी कर दिया है.

इसके बाद से उनकी फांसी को लेकर अदालत से लेकर तिहाड़ जेल तक हलचल तेज हो गई है.अब जल्द ही चारों दोषियों को जेल के डेथ सेल में शिफ्ट कर दिया जाएगा, जहां एक-एक पल उन्हें भीतर तक सिहराता रहेगा. डेथ सेल को फांसी कोठी भी कहा जाता है.

कैद किया जाएगा काल कोठरी में
यह फांसी कोठी जेल के कैदी सेल से बिल्कुल दूर किसी सुनसान हिस्से में होती है. इस बारे में जेल में बंद कैदियों को भी पता नहीं होता कि फांसी कोठी किस जगह पर है. कोठी बिल्कुल अंधेरी और छोटी सी होती है. निर्भया के दरिंदे जो फिलहाल कैदी सेल में हैं, उन्हें इसी कोठी में शिफ्ट किया जाएगा. यहां वे बिल्कुल अकेले होंगे. एक कोठी में एक दोषी को ही रखा जाएगा. उन्हें इस कोठी में बस जरूरत भर की जगह मिलेगी. इस कोठी में उनके लिए एक एक पल बिताना इतना मुश्किल होगा कि उन्हें बाहर की धूप और खुली हवा तक नसीब नहीं हो पाएगी.

दोषियों छोटी सी छोटी चीजों से रखा जाएगा दूर
तिहाड़ जेल की फांसी कोठी जहां निर्भया के दोषियों को रखा जाएगा, वहां की सुरक्षा तमिलनाडु पुलिस करेगी. इन कोठियों के आसपास सुरक्षा गार्डों के अलावा और कोई नहीं होगा. फांसी कोठी में शिफ्ट करने के बाद दोषियों को पजामे में नाड़ा तक नहीं पहनने दिया जाएगा. उनके पास छोटी से छोटी भी ऐसी चीज नहीं होगी जिससे वे खुद को नुकसान पहुंचा पाएं.

कैसा होगा फांसी का दिन
इस कमरे में निर्भया के दोषियों को सिर्फ एक कंबल और पीने के पानी की सुविधा मिलेगी. 22 जनवरी, सुबह सात बजे से 24 घंटे पहले मात्र आधे घंटे के लिए उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच मात्र आधे घंटे के लिए खुली हवा में टहलने की अनुमति दी जाएगी. इसके बाद फांसी की प्रक्रिया शुरू होगी।

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap