जानिए, नागरिकता संशोधन कानून के मामले पर क्या बोले अर्थशास्त्री ‘अमर्त्य सेन’


नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने कहा है कि नागरकिता संशोधन कानून को रद्द कर दिया जाना चाहिए. कोलकाता में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को असंवैधानिक होने के आधार पर इस कानून को रद्द कर देना चाहिए.

देश की विपक्षी पार्टियों का विरोध
बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून का देश भर में विरोध हो रहा है. देश की विपक्षी पार्टियां नरेंद्र मोदी सरकार के इस कानून का विरोध कर रही हैं. इस कानून का विरोध करते हुए अमर्त्य सेन ने कहा, “मुझे लगता है कि CAA को रद्द कर देना चाहिए, क्योंकि ये कानून नहीं हो सकता है, अब ये देखना सुप्रीम कोर्ट का काम है कि संसद में जो पास किया गया था वो विधि सम्मत है या नहीं.”

नागरिकता कानून करता है संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन
अमर्त्य सेन ने कहा कि जहां तक उन्होंने इस कानून को पढ़ा तो ये कानून संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन करता है. उन्होंने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता का मामला संविधान सभा में आया था और फिर ये फैसला लिया गया कि धर्म के आधार पर नागरिकता नहीं दी जा सकती है.

पुलिस पर उठाए सवाल
जवाहर लाल नेहरू के छात्रों का समर्थन करते हुए अमर्त्य सेन ने कहा है कि इस मामले में अबतक न्याय नहीं हुआ है. दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि आखिर जिन लोगों को नकाबपोशों ने पीटा उन्हीं का नाम एफआईआर में कैसे जोड़ दिया गया.

जेएनयू में उत्पात
हॉवर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र और दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर अमर्त्य सेन ने कहा कि कुछ बाहरी लोग आए और उन्होंने जेएनयू के छात्रों पर हमला किया और वहां पर उत्पात मचाया, विश्वविद्यालय प्रशासन इसे नहीं रोक सका और न ही पुलिस वहां पर वक्त पर पहुंच सकी.

जिन पर हुआ हमला उन्हीं के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर
अमर्त्य सेन ने कहा, “अब तक पुलिस ने इस मामले में किसी को गिरफ्तार नहीं किया है, मैंने यह भी सुना है कि वहां के सीसीटीवी कैमरे भी काम नहीं कर रहे थे. पुलिस की रिपोर्ट में भी गड़बड़ी थी इसलिए उसे सबमिट नहीं किया जा सका, एफआईआर जो पिटे उन्हीं के खिलाफ दर्ज किया गया. इस मामले में न्याय का घोर अभाव है.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap