जानिए क्यों होता है हाथ-पैरों में दर्द


आइये जानते हैं हाथ पैर का दर्द दबाने से ठीक कैसे होता है. बदन दर्द हो या हाथ पैर का दर्द, यह समस्या पहले बुज़ुर्गो में ही देखी जाती थी.

लेकिन आज की जीवनशैली में इस दर्द से कोई वंचित नहीं है. फिर चाहे वो जवान हो या बच्चे. जरा सी भागदौड़ करते ही अरे यह दुख रहा या उफ यह दर्द, जैसी शिकायत लगभग सभी को है.

दर्द की है ये वजहें
जैसे नींद में कमी, अधिक चलना, मांसपेशियों में अकड़न-सिकुड़न या थकान, नस का दूसरी नस पर चढ़ जाना, ब्लड क्लॉटिंग की वजह से गांठ का बनना, तनाव, भोजन में पोष्टिकता की कमी, घुटनों में दर्द, हाथ-पैर या हिप्स में रक्त का सही संचार ना होना, भोजन में मिनरल्स-विटामिन्स-प्रोटीन की कमी, व्यायाम का ना करना, पानी कम पीना, अधिक दवा का सेवन, कोई पुरानी चोट, कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में कमी, शारीरिक कमजोरी, हॉमोर्नल प्रॉब्लम्स, नसों में दर्द या कोई बीमारी भी हाथ-पैर के दर्द का मुख्य कारण हो सकता है.

दबाने से ब्लड-सर्कुलेशन रहता है दुरुस्त
बहुत हद तक यह दर्द दबाने से ठीक हो जाता है लेकिन कुछ समय के लिए. पूर्ण आराम के लिए आपको इसका स्थाई उपचार करवाना जरूरी है. हाथ-पैर को दबाने से ब्लड-सर्कुलेशन दुरुस्त हो जाता है जिससे कोशिकाओं के समूह में से लैक्टिक एसिड ब्लड के द्वारा विस्थापित होने लगता है और हमें आराम के साथ दर्द से भी राहत मिलती है.

पैरों को दबाने से खून में आती है गर्मी
जब रक्त-संचार अवरुद्ध होने लगता है तो हाथ-पैर की मसाज से खून में गर्मी आती है जिससे रक्त पतला पड़ता है और शरीर में पूरी गति से नसों में प्रवाहित होने लगता है. यही कारण है की दबाने से दर्द से मुक्ति मिलती है. लेकिन यह राहत क्षणिक होती है.

लें सलाह एक्सपर्ट से
एक्यु का अर्थ होता है पॉइंट. यह उपचार आप सबसे पहले किसी अच्छे एक्युप्रेशर एक्सपर्ट से करवाए और समझ कर स्वयं करे. साफ कंक्रीट पर 10-15 मिनट तक पैदल चले. नहाते वक्त पैरों के तलुवों को ब्रश से 4-5 बार रगडे. सरसों या किसी तेल से हाथ-पैर की मालिश करे. एक्युप्रेशर चप्पलें पैरों के लिए और एक्युप्रेशर रोलर हाथ के लिए रोजाना कुछ मिनट ताली बजाए. इससे हाथों में रक्त-संचार सही होने लगता है और दर्द ठीक होता है.

तुरंत कराएं चेकअप
कभी भी गलत तरीके से हाथ-पैर को ना दबाएं. यह घातक हो सकता है. जब शरीर में लैक्टिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाती है तो हाथ-पैर को मोडने से कट-कट की आवाज आती है जिससे हमे कुछ आराम मिलने लगता है. लेकिन यह आदत आपकी हड्डियों व मांसपेशियों को कमजोर बनाती है. दर्द के दौरान शरीर कड़क हो जाता है इसलिए हल्के हाथों से हाथ-पैर की मालिश करे या दबाए.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap