फास्टैग के बारें में जानकर, टोल से रहे मुक्त


अगर आप राष्ट्रीय राजमार्ग पर सफर कर रहे हैं तो अब आपको टोल पर लाइन में लगने की जरूरत नहीं. सिर्फ FASTag प्रीपेड कार्ड लीजिए और भर्राटा भरिये. FASTag रिचार्ज होने वाला प्रीपेड टैग है जिसका टोल पर अपने आप बिना रुके ऑनलाइन भुगतान हो जाएगा. इस टैग में रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिटीफिकेशन (आरएफआईडी) तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. एक बार एक्टिव होने के बाद इसे गाड़ी की विंडस्क्रीन पर चिपका दिया जाता है.
यह टैग सभी टोल प्लाजा और कुछ बैंकों सहित दूसरी एजेंसी पर बिक्री के उपलब्ध होगा. कुछ बैंक इसके लिए ऑनलाइन फार्म भरवाते हैं. इसके लिए आवेदन फार्म के जरिए होता है. जरूरी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद एक FASTag खाता संख्या ग्राहक को आवंटित कर दी जाता है.


जानिए फास्टैग के बारें
फास्टैग एक छोटा सा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है। ये ऐसा ही है जैसा की कोई क्रेडिट या डेबिट कार्ड। हालांकि, आकार में यह क्रेडिट कार्ड से आधा या उससे छोटा भी होता है। इसमें एक चिप लगी होती है, जिसके अंदर आपके वाहन से संबंधित सारी जानकारी मौजूद रहती है। जैसे ही आप टोल प्लाजा पर जाएंगे, आपके वाहन से जुड़ी सारी जानकारी दर्ज हो जाएगी और टोल की राशि अपने आप कट जाएगी।

आइए जानते हैं फास्‍टैग से जुड़ी कुछ जरूरी बातें..

फास्‍टैग हर उस व्‍यक्ति के लिए जरूरी है जिसके पास चार पहिया या उससे बड़े वाहन हैं. हालांकि, दो पहिया वाहनों के लिए फास्‍टैग जरूरी नहीं है.
फास्‍टैग गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगता है. इसको लगाने के बाद अगर आप गाड़ी लेकर टोल प्लाजा से गुजरते हैं तो रुकने की जरूरत नहीं होगी. टोल प्‍लाजा पर लगे कैमरे इसे स्‍कैन कर लेंगे. इसके बाद टोल टैक्‍स के तौर पर रकम आपके अकाउंट से अपने आप कट जाएगी.


कहां लगवाएं फास्टैग?
राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) और दिल्ली नगर निगम के सभी टोल प्लाजा पर एक दिसंबर तक फास्टैग मुफ्त में लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा कुछ शुल्क लेकर बड़े बैंक आपके घर भी लगवा देंगे। इसके लिए बैंक के कस्टमर केयर से सूचना ले सकते हैं।

कब लगवा सकते है फास्टैग
कोई अंतिम तिथि तय नहीं है, लेकिन अगर 1 दिसंबर के बाद टोल पर बनी फास्टैग लेन से निकले तो दोगुना पैसा देना होगा।

कितनी फीस होगी?
1 दिसंबर तक ही टैग मुफ्त (वैसे 100 रुपये कीमत) है। शुरुआती शुल्क के रूप में 500 रुपये देने होंगे। इनमें 150 रुपये आपके फास्टैग अकांउट में जाएंगे। बाकी 350 रुपये रजिस्ट्रेशन और सिक्योरिटी शुल्क के रूप में देने होंगे।

कैसे रिचार्ज कराएं ?
अपने फोन पर माई फास्टैग एप डाउनलोड करें। इसमें वाहन का विवरण दर्ज करके टैग को एक्टिवेट कर लें। यहां आप रिचार्ज कर सकते हैं और बैंक खाते से भी फास्टैग को जोड़ सकते हैं। जब भी आप टोल से गुजरेंगे, राशि आपके खाते से कट जाएगी।

दस्तावेजों की जरूरत
अपने फोन पर माई फास्टैग एप डाउनलोड करें। इसमें वाहन का विवरण दर्ज करके टैग को एक्टिवेट कर लें। यहां आप रिचार्ज कर सकते हैं और बैंक खाते से भी फास्टैग को जोड़ सकते हैं। जब भी आप टोल से गुजरेंगे, राशि आपके खाते से कट जाएगी।

पेटीएम सुविधा?
जी हां, पेटीएम ने भी कुछ संख्या में फास्टैग जारी किए हैं। पेटीएम से भी फास्टैग को रिचार्ज कराया जा सकता है और अपने खाते से जोड़ा जा सकता है


फास्टैग से फायदा
फास्‍टैग का सबसे बड़ा फायदा समय, ईंधन और पैसे की बचत है. बता दें कि फास्‍टैग से टोल टैक्‍स पर सरकार 2.5 फीसदी तक का कैशबैक दे रही है. ऐसे में कैश से टोल देने के मुकाबले फास्‍टैग से पेमेंट करना बेहतर होगा. इसके अलावा आपके सभी फास्‍टैग लेनदेन के लिए आपको एसएमएस और ईमेल अलर्ट मिलेंगे. वहीं प्रदूषण के भी कम होने की उम्‍मीद है.


फास्टैग से नुकसान
अगर आपने फास्‍टैग नहीं लगवाया तो टोल पर बने एक मात्र कैशलेन से जाना होगा. वहीं अगर गलती से भी फास्‍टैग लेन में जाएंगे तो डबल टोल देना पड़ सकता है.


हेल्पलाइन नंबर से ले सकते है मदद
फास्‍टैग से जुड़ी शिकायत है तो आपको इसे जारी करने वाली एजेंसी के हेल्‍पलाइन नंबर पर कॉल करना होगा. आप फास्‍टैग जारी करने वाले बैंक या मोबाइल वॉलेट की हेल्‍पलाइन नंबर पर फोन कर शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap