चीन में कोरोना वायरस का आतंक जारी, अब तक 106 लोगों की मौत के साथ सामने आये 1300 नए केस


चीन के वुहान शहर (Wuhan City) से शुरु हुए कोरोना वायरल (Corona Virus) ने पूरे चीन (China) में कोहराम मचा दिया है.

यहां अबतक मरने वालों की संख्या बढ़कर 106 हो गई है. वहीं कोरोना के 1300 नए मामले भी सामने आए हैं. चीन की नेशनल हेल्थ कमीशन (National Health Commission) के मुताबिक, कोरोना वायरस की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 106 हो गई है, वहीं कोरोना के पीड़ितों की कुल संख्या 2,744 हो गई है.

बताया जा रहा है कि इनमें 461 लोगों की हालत बेहद चिंताजनक बनी हुई है. हेल्थ कमीशन के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 24 लोगों की मौत हो चुकी है. मरने वालों में एक नौ महीने की बच्ची भी शामिल है. इसके अलावा 4,359 लोगों को संदिग्ध मानकर जांच की जा रही है.

भारत में भी कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है. रविवार को जयपुर में एक युवक को संदिग्ध मानकर सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया. वहीं सोमवार को दक्षिणी मुंबई के रहने वाले एक शख्स को भी कोरोना वायरस का संदिग्ध रोगी मानकर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इके अलावा चीन से लौटी बिहार की छपरा की रहने वाली एक लड़की का संदिग्ध रोगी मानकर पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है.

कोरोना के खतरे के देखते हुए सरकार ने देश के सभी एयरपोर्ट पर विदेश से आने वाले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग के आदेश दिए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि अब तक 155 फ्लाइट से आने वाले 33,552 यात्रियों की जांच की जा चुकी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि कोरोना वायरस को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित करना जल्दबाजी होगी. सोमवार को भारत सरकार ने चीन के वुहान शहर में फंसे भारतीयों को वापस लाने का फैसला किया है. यहां फंसे लोगों की संख्या करीब 250 बताई जा रही है. जिनमें अधिकतर छात्र हैं. जो चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं.

बता दें कि मुंबई के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर 26 जनवरी तक 3756 यात्रियों ने स्क्रीनिंग की जा चुकी है. अब तक कोरोना वायरस के चार संदिग्ध मरीजों को मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुणे के नायडू अस्पताल में दो मरीजों को भर्ती किया गया है. इसके अलावा चीन से केरल लौटे 436 लोग निगरानी में है. पांच लोग अभी भी अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं.

सभी रोगियों के खून का नमूण पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजे गए थे जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री केके शायलजा का कहना है कि जिला स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर सभी तरह के कदम उठाए गए हैं. अभी कोई रोगी न मिलने के बाद अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड तैयार कर लिया है.

hi_INHindi
hi_INHindi
Share via
Copy link
Powered by Social Snap